Breaking News
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पूर्व विधायक पिथौरागढ़ एवं वरिष्ठ भाजपा नेता कृष्ण चंद्र पुनेठा के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया
  • केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री ने मुख्यमत्रीं के साथ राज्य में जल जीवन मिशन के तहत संचालित किये जा रहे कार्यों की गहनता से की समीक्षा
  • प्रदेश में बेरोजगारी के मुद्दे पर जनता को भ्रमित करने व गलत बयानी पर कांग्रेस जनता से माफी माँगेः भाजपा
  • हिन्दी के प्रचार-प्रसार हेतु भारतीय वानिकी अनुसन्धान एवं शिक्षा परिषद् में हिंदी पखवाड़े का हुआ शुभारंभ
  • कोविड 19 के जिस दौर से हम गुजर रहे हैं, उससे औद्योगिक गतिविधियां जरूर प्रभावित हुई: मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत

5100 दिये जलाकर मनाया गया दीपोत्सव

देहरादून, न्यूज़ आई: मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा अयोध्या में किये गये राम मन्दिर शिलान्यास को भविष्य के भारत के प्रति प्रधानमंत्री की स्पष्ट सोच को प्रदर्शित करता है। उन्होंने इसे सबका साथ सबका विश्वास का भी मंत्र बताया है।
बुधवार को राम मन्दिर शिलान्यास के उपलक्ष्य में मुख्यमंत्री आवास में अपनी पुत्री कुमारी श्रृजा के साथ दीपोत्सव कार्यक्रम के पश्चात मीडिया से अनौपचारिक वार्ता करते हुए मुख्यमंत्री मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि 21 वीं सदी में इस भूमि पर प्रधानमंत्री द्वारा किये गये राम मन्दिर के शिलाल्यास से यह संदेश भी गया है कि भविष्य के भारत के प्रति प्रधानमंत्री की सोच क्या है। उन्होंने कहा कि आज देश का बहुप्रतीक्षित सपना पूरा हुआ है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व वाली दृढ़ इच्छा शक्ति वाली सरकार तथा जन समर्थन से यह सपना पूरा हुआ है। उन्होंने कहा कि आज देश व प्रदेश में दीपावली जैसा माहौल है, उन्होंने सबको साथ लेकर प्रदेश को आगे बढ़ाने का संकल्प भी दोहराया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि माता सीता का उत्तराखण्ड से भी सम्बंध रहा है। पौड़ी जनपद के सितोलस्यूँ पट्टी में फलस्वाड़ी के सीतासैण के पास विदाकोटी स्थान पर माता सीता ने भूसमाधि ली थी उसके पास ही ऋषि वाल्मीकि का उत्तराखण्ड का अकेला मन्दिर है जो माता सीता के मन्दिर की पुष्टि करता है। उन्होंने कहा कि यहां पर मेला भी आयोजित होता है। इस स्थान पर माता सीता का भव्य मन्दिर बनाकर उसे पहचान दिये जाने की बात भी मुख्यमंत्री ने कही।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राम मन्दिर के शिलान्यास से राम जन्म भूमि आन्दोलन के साक्षी रहे लोगों को असीम सुख की प्राप्ति हुई है तथा इस आन्दोलन में अपना जीवन उत्सर्ग करने वालों की आत्मा को निश्चित रूप से शांति मिली होगी। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि वे परिस्थितियां सामान्य होते ही अयोध्या जाकर भगवान श्री राम के दर्शन करेंगे।
उत्तराखण्ड माटी कला बोर्ड के सहयोग से आयोजित इस कार्यक्रम में बोर्ड के अध्यक्ष श्री शोभा राम प्रजापति एवं अन्य लोग उपस्थित थे।