Breaking News
  • महाकुंभ 2021: पेशवाई में बैरागियों ने दिखाए करतब, हेलीकॉप्टर से बरसे फूल, श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़
  • महाकुंभ: 151 शंखों के नाद के साथ कुंभ का विधिवत आगाज, हरकी पैड़ी पर गूंजे मां गंगा और महादेव के जयघोष
  • उत्तराखंड : नए स्ट्रेन ने बढ़ाई मुश्किल, जवानों के लिए कुंभ के साथ कोरोना की दोहरी चुनौती
  • उत्तराखंड: मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने दी कोरोना को मात, कार्यालय में पूजा अर्चना कर की काम की शुरुआत
  • उत्तराखंड में कोरोना: मंगलवार को 24 घंटे में सामने आए 791 संक्रमित, सात मरीजों की हुई मौत 

चमोली में ग्लेशियर फटने से आई आपदा, हरिद्वार तक बढ़ा खतरा, अलर्ट जारी

चमोली/देहरादून, न्यूज़ आई: उत्तराखंड के चमोली जिले के रैनी में ग्लेशियर फटने से आपदा आ गई है। ग्लेशियर फटने से धौली नदी में बाढ़ आ गई है। इससे चमोली से हरिद्वार तक खतरा बढ़ गया है। स्टेट कंट्रोल रूम के अनुसार, गढ़वाल की नदियों में पानी ज्यादा बढ़ा हुआ है। करंट लगने से कई लोग लापता बताए जा रहे है। ग्लैशियर की बाढ़ के चलते ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को बड़ा नुकसान हुआ.
इसके साथ ही हरिद्वार जिला प्रशासन ने भी अलर्ट जारी कर दिया है। सभी थानों और नदी किनारे बसी आबादी को सतर्क रहने के निर्देश दिए गए हैं। ऋषिकेश में भी अलर्ट जारी किया गया है। नदी से बोट संचालन और राफ्टिंग संचालकों को तुरंत हटाने के निर्देश दिए गए हैं।
चमोली जिले के नदी किनारे की बस्तियों को पुलिस लाउडस्पीकर से अलर्ट कर रही है। कर्णप्रयाग में अलकनंदा नदी किनारे बसे लोग मकान खाली करने में जुटे हैं। 
अपर जिलाधिकारी टिहरी शिव चरण द्विवेदी ने बताया श्रीनगर जल विद्युत परियोजना को झील का पानी कम करने के निर्देश जारी किए गए हैं। ताकि अलकनंदा का जल स्तर बढ़ने पर अतिरिक्त पानी छोड़ने में दिक्कत न हो।