Breaking News
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने विकास भवन देहरादून एवं देहरादून सदर तहसील कार्यालय में ई-ऑफिस प्रणाली का किया शुभारम्भ
  • उत्तराखंड: वर्चुअल सम्मेलन में पार्टी नेताओं ने भरी हुंकार, सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष करेगी कांग्रेस
  • मलबा और बोल्डर आने से बदरीनाथ और यमुनोत्री हाईवे बंद, रास्ते में फंसे सैंकड़ो यात्री
  • उत्तराखंड : प्रदेश में यातायात पुलिस के 312 पद स्वीकृत, जल्द निदेशालय की ओर से निकाली जाएगी विज्ञप्ति
  • मुख्यमंत्री ने राज्य सचिवालय के अनुभागों में पत्रावलियों के निस्तारण में विलम्ब के लिये उत्तरदायी कार्मिक के विरूद्ध कठोर कार्यवाही के दिये सख्त निर्देश

जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने ली गंगा सुरक्षा समिति की बैठक

देहरादून, न्यूज़ आई। जिला कार्यालय में जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव की अध्यक्षता में जिला गंगा सुरक्षा समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में पिछली बैठक में दिये गये निर्देशों की विभागवार प्रगति की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने आई.एंड.डी एवं 26 एम एलडी एसटीपी और सीवर लाईन बिछाने से जुड़े सभी कार्यों को निर्धारित समय में पूर्ण करने के निर्देश दिये गये, जिसकी अद्यतन प्रगति की जानकारी देते हुए अवगत कराया गया कि 26 एमएलडी एसटीपी के कार्य पूर्ण, ट्रायल व टेस्टिंग की कार्यवाही गतिमान हैं तथा मायाकुण्ड एसपीएस की प्रगति 27 प्रतिशत्, स्वर्गाश्रम एवं बापूग्राम एस.पी.एस की भौतिक प्रगति 72 प्रतिशत् रही, जबकि मुख्य ट्रैक सीवर लाईन का कार्य 76 प्रतिशत् पूर्ण किया गया है।
समीक्षा के दौरान जल संस्थान अनुरक्षण शाखा गंगा सब डिविजन ऋषिकेश के कार्यों में संतोषजनक कार्य न होने पर जिलाधिकारी द्वारा नाराजगी व्यक्त की गई। उन्होंने गंगा नदी से सटे वार्डों में रोटेशन के आधार पर प्रत्येक सप्ताह स्वच्छता अभियान चलाये जाने के निर्देश दिये। गंगा सुरक्षा, त्रिवेणी घाट एवं गंगा की महत्ता की जागरूकता हेतु जिंगल गीत के प्रसारण के अलावा आस्था पथ पर गन्दगी का निस्तारण, नियमित प्रकाश की व्यवस्था के साथ ही विभिन्न वार्डों के स्थान निर्धारित कर गंगा में गंदगी फैलाने वालों को हतोस्ताहित एवं सफाई हेतु प्रोत्साहित करने की रणनीति बनाये जाने के निर्देश दिये।
जिला गंगा सुरक्षा समिति की बैठक में देहरादून एवं ऋषिकेश में सीवरेज व्यवस्था की वास्तविक स्थिति की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जल निगम एवं जल संस्थान को आपसी समन्वय बनाकर अहस्तान्तरित सीवरेज योजनाओं के हस्तान्तरण की कार्यवाही तेजी ये चलाये जाने को कहा। उन्होंने कहा कि इस कार्य में कोताही कतई बर्दाश्त नहीं की जायेगी। बैठक में सभी सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांटों का पानी सिंचाई तथा अन्य व्यवस्था में प्रयोग में लाये जाने के निर्देश सिंचाई विभाग के अधिकारी को दिये। उन्होंने उत्तराखण्ड प्रदूषण बोर्ड को पर्यावरणीय नियमों को उल्लंघन करने वालों को नोटिस जारी करने के भी निर्देश दिये। इसके अलावा लो.नि.वि को क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत करने के निर्देश दिये। उन्होंने नदी नाले वाले क्षेत्र में अतिक्रमण करने वाले परिवारों के साथ बैठक करने के अलावा 16 जुलाई को हरेला पर्व के अवसर पर नदी किनारें चम्पा, रात की रानी जैसे खुशबुयक्त पौधों के रोपण करने हेतु प्रभागीय वनाधिकारी को आवश्यक कार्यवाही करने की बात कही। उन्होंने कहा कि जिला गंगा सुरक्षा समिति की त्रैमासिक समाचार पत्र का प्रकाशन यथा समय करने को कहा। जिला गंगा सुरक्षा समिति की बैठक में प्रभागीय वनाधिकारी राजीव धीमान, जिला विकास अधिकारी सुरेश मोहन डोभाल, नगर निगम ऋषिकेश के सहायक आयुक्त विनोद शाह समेत सिंचाई, जल निगम, जल संस्थान, प्रदूषण बोर्ड आदि अन्य सम्बन्धित विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।