Breaking News
  • मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना के बेहतर क्रियान्वयन को लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय में किया गया प्रकोष्ठ का गठन
  • अयोध्या में श्रीराम मंदिर के भूमि पूजन एवं शिलान्यास के उपलक्ष्य में मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने अपने आवास में दीप प्रकाशित किए
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रूद्रपुर में 300 बेड के कोविड-19 हाॅस्पिटल का किया लोकार्पण
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रूद्रपुर में विकास कार्यो के साथ ही कोविड 19 को लेकर की समीक्षा बैठक
  • राज्य कैबिनेट की बैठक में लिए गए कई अहम निर्णय, कर्मचारी पदोन्नति परित्याग नियमावली को मंजूरी

कोविड-19: अब प्रदेश में हो सकेगी 2400 टेस्टिंग प्रतिदिन

देहरादून, न्यूज़ आई: मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश में कोविड टेस्टिंग बढ़ाने के लिये दून, हल्द्वानी व श्रीनगर मेडिकल कालेज के लिये 3 हाईटेक टेस्टिंग मशीन क्रय करने के लिये 11.25 करोड़ की धनराशि स्वीकृत की है। यह धनराशि राज्य आपदा मोचन निधि से स्वीकृत की गई है। क्रय की जाने वाली इन हाईटेक मशीनों की टेस्टिंग क्षमता 800 प्रति दिन है। इस प्रकार इससे 2400 टेस्टिंग प्रतिदिन हो सकेगी। अभी तक इन मेडिकल कालेजों में स्थापित मशीनों की टेस्टिंग क्षमता कम थी।
इसके अतिरिक्त प्रदेश से 50 से 100 सेम्पल जांच के लिए चण्डीगढ़ की इम्पेक्ट लेब में भेजे जा रहे हैं। जबकि नई दिल्ली स्थित एनसीडीसी लेब में हरिद्वार से 300, उधमसिंह नगर से 300 तथा नैनीताल से 100 सेम्पल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। जबकि लगभग 50 टेस्ट आई.आई.पी की टेस्टिंग लेब में किये जा रहे हैं।
जनपद स्तर पर भी जांच की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 7 स्थानों पर टू नाट मशीन स्थापित की गई है। इनमें से चार ने कार्य आरम्भ कर दिया है जबकि 11 मशीनों की और व्यवस्था की जा रही है।
प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ. पंकज कुमार पाण्डेय ने बताया कि राज्य के इन तीन मेडिकल कालेजों में हाइटेक मशीनों की स्थापना एवं टू नाट मशीनों की जनपद स्तर पर स्थापना से राज्य में कोरोना की जांच में तेजी आयेगी।