Breaking News
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने विकास भवन देहरादून एवं देहरादून सदर तहसील कार्यालय में ई-ऑफिस प्रणाली का किया शुभारम्भ
  • उत्तराखंड: वर्चुअल सम्मेलन में पार्टी नेताओं ने भरी हुंकार, सड़क से लेकर सदन तक संघर्ष करेगी कांग्रेस
  • मलबा और बोल्डर आने से बदरीनाथ और यमुनोत्री हाईवे बंद, रास्ते में फंसे सैंकड़ो यात्री
  • उत्तराखंड : प्रदेश में यातायात पुलिस के 312 पद स्वीकृत, जल्द निदेशालय की ओर से निकाली जाएगी विज्ञप्ति
  • मुख्यमंत्री ने राज्य सचिवालय के अनुभागों में पत्रावलियों के निस्तारण में विलम्ब के लिये उत्तरदायी कार्मिक के विरूद्ध कठोर कार्यवाही के दिये सख्त निर्देश

मसूरी क्षेत्र की समस्याओं के निस्तारण को लेकर विधायक जोशी एमडीडीए उपाध्यक्ष से मिले

देहरादून, न्यूज़ आई। मसूरी विधायक गणेश जोशी ने मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष रणवीर सिंह चैहान से उनके ट्रांसपोर्ट नगर स्थित कार्यालय में मुलाकात कर मसूरी विधानसभा क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं के निस्तारण के लिए आग्रह किया। उन्होनें कहा कि कोविड-19 के कारण व्यवसायी परेशानी में हैं और ऐसे में प्राधिकरण द्वारा नक्शे पास करवाने के लिए कहा जाना न्यायोचित नहीं है।
मसूरी विधायक गणेश जोशी ने बताया कि कुछ समय पूर्व प्राधिकरण द्वारा भू-उपविभाजन शुल्क में संशोधन किया गया है जिसमें नगर निगम क्षेत्रान्र्तगत (पुराने 60 वार्ड) में यह शुल्क एकल आवासीय के लिए 01 प्रतिशत तथा गैर एकल आवासीय के लिए 02 प्रतिशत रखा गया है जबकि नगर निगम के नये वार्डो एवं शेष समस्त क्षेत्र में भू-उपविभाजन शुल्क को एकल आवासीय के लिए 05 प्रतिशत और गैर एकल आवासीय के लिए 07 प्रतिशत रखा गया है। उन्होंने बताया कि मसूरी डायवर्जन रोड़ पर पूर्व में गैर एकल आवासीय भू-उपविभाजन शुल्क 02 प्रतिशत था, जिसे बढ़ा कर 07 प्रतिशत कर दिया गया है। जिससे स्थानीय मूल निवासियों को भू-उपविभाजन शुल्क का अत्यधिक भार पढ़ रहा है क्योंकि मसूरी डायवर्जन पर सर्किल रेट 27600 प्रति वर्ग मीटर है। सर्किल रेट के अधिक होने के कारण स्थानीय लोगों को अपनी पैतृक भूमि में मानचित्र स्वीकृत करवाना सम्भव नहीं हो पा रहा है। जहां एक तरफ प्राधिकरण द्वारा नोटिस के बाद सिलिंग की कार्यवाही की जा रही है वही दूसरी ओर ग्रामीण बढ़ा हुए भू-उपविभाजन शुल्क देने में असमर्थता व्यक्त कर रहे हैं। यह भी स्पष्ट किया कि मसूरी डायवर्जन रोड़ पूर्ण रुप से विकसित क्षेत्र है और पहले से विकसित क्षेत्र में भू-उपविभाजन शुल्क बढ़ाने का कोई औचित्य नहीं है। उन्होनें प्राधिकरण से मसूरी डायवर्जन रोड़ पर भू-उपविभाजन शुल्क को एकल आवासीय के लिए 01 प्रतिशत तथा गैर एकल आवासीय के लिए 02 प्रतिशत किये जाने का आग्रह किया।
इस अवसर पर भाजपा के मण्डल महामंत्री राहुल रावत, पूर्व प्रधान सुन्दर सिंह कोठाल आदि उपस्थित रहे।