Breaking News
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरू नानक जयंती की प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आगामी कुम्भ को लेकर मेलाधिकारी कुम्भ, जिलाधिकारी हरिद्वार के साथ ही शासन के उच्चाधिकारियों से प्राप्त किये सुझाव
  • मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के दृष्टिगत आगामी कुम्भ मेले में स्वास्थ्य एवं सुरक्षा से सम्बन्धित व्यवस्थाओं पर की चर्चा
  • महाकुंभ 2021: लगेंगे सभी अखाड़ों के शिविर, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक में कई प्रस्ताव पास
  • ऋषिकेश: राम, लक्ष्मण और जानकी के बाद अब आकार लेगा बजरंग पुल, दिखेगी केदारनाथ मंदिर की झलक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन के साथ की वर्चुअल मीटिंग

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन के साथ वर्चुअल मीटिंग की. दोनों नेताओं के बीच द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा हुई. भारत और आस्ट्रेलिया द्वारा चीन से जुड़े मुद्दों पर जी-7 देशों की विस्तारित बैठक में भाग लेने के अमेरिका के निमंत्रण को स्वीकार करने के बाद, गुरुवार को भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और आस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने एक वर्चुअल शिखर सम्मेलन में हिस्सा लिया और दोनों देशों के द्विपक्षीय रणनीतिक संबंधों को और मजबूत करने पर विचारों का आदान-प्रदान​ किया
पीएम मोदी ने कहा कि सबसे पहले मैं अपनी ओर से और पूरे भारत की ओर से ऑस्ट्रेलिया में COVID-19 से प्रभावित सभी लोगों और परिवारों के प्रति हार्दिक संवेदना प्रकट करना चाहूंगा. इस वैश्विक महामारी ने विश्व में हर प्रकार की व्यवस्था को प्रभावित किया है और हमारे समिट का यह डिजिटल स्वरूप इसी प्रकार के प्रभावों का एक उदाहरण है. हमारी आज की मुलाकात आपकी भारत यात्रा का स्थान नहीं ले सकती. एक मित्र के नाते, मेरा आपसे आग्रह है कि स्थिति सुधरने के बाद आप शीघ्र सपरिवार भारत यात्रा प्लान करें और हमारा आतिथ्य स्वीकार करें. इस कठिन समय में आपने ऑस्ट्रेलिया में भारतीय समुदाय का, और खास तौर पर भारतीय छात्रों का, जिस तरह ध्यान रखा है, उसके लिए मैं विशेष रूप से आभारी हूं. पीएम मोदी ने कहा, ‘मेरा मानना है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के संबंधों को और सशक्त करने के लिए यह बेहतर समय है, बेहतर मौ​का है. अपनी दोस्ती को और मजबूत बनाने के लिए हमारे पास असीम संभावनाएं हैं. कैसे हमारे संबंध अपने क्षेत्र के लिए और विश्व के लिए एक ‘factor of stability’ बनें, कैसे हम मिल कर वैश्विक बेहतरी के लिए कार्य करें, इन सभी पहलुओं पर विचार की आवश्यकता है.’