Breaking News
  • मशहूर फिल्म अभिनेता हेमंत पांडे ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत को पत्र भेजकर उत्तराखंड को माफिया से बचाने की मांग की
  • कोरोना वैक्सीन: एक मार्च से 45 साल की उम्र से ऊपर वालों को लगेगा टीका, सरकारी केंद्रों पर फ्री, तो प्राइवेट केंद्रों पर लगेगा पैसा
  • राकेश टिकैत के बयान पर कृषि मंत्री बोले- किसान केंद्र की पेशकश पर विचार करें तो सरकार बातचीत को तैयार
  • मुख्यमंत्री ने उत्तराखण्ड में रोड़ कनेक्टीवीटी के विकास में महत्वपूर्ण सहयोग के लिए केंद्रीय मंत्री का बहुत आभार व्यक्त किया
  • मुख्यमंत्री के अनुरोध पर केंद्रीय मंत्री ने आईएसबीटी, देहरादून बस अड्डा की सडक परियोजना के लिए 48 करोड रूपए की स्वीकृति पर सहमति दी

भारत-चीन सीमा विवाद के बीच अचानक लद्दाख पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा विवाद के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अचानक लद्दाख पहुंच गए. यहां उन्होंने लद्दाख के नीमू पोस्ट में थलसेना और वायुसेना के अफसरों से मुलाकात की. अधिकारियों ने पीएम को वर्तमान स्थिति के बारे में ब्रीफ किया. इस दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे भी मौजूद रहें. इसके बाद पीएम ने गलवान घाटी में घायल हुए जवानों से अस्पताल में मुलाकात की.
नीमू सिंधु नदी के तट पर 11,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित सबसे दुर्गम स्थानों में से एक है. यह जंस्कार पर्वत श्रृंखला से घिरा हुआ है. पहले आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को लेह का दौरा करना था, लेकिन उनका लेह जाना कैंसिल हो गया. इसके बाद अचानक खबर आई कि पीएम मोदी खुद लेह पहुंच गए.
प्रधानमंत्री मोदी का लेह दौरा ऐसे समय में काफी अहम माना जा रहा है, जब भारत और चीन के बीच कूटनीतिक स्तर पर बातचीत चल रही है. कहा जा रहा है पीएम मोदी के लेह पहुंचने का असर उन चीनी सैनिकों के मनोबल पर पड़ सकता है जिनके साथ चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग खड़े होते नहीं दिख रहे हैं. क्योंकि 15-16 जून की दरम्यानी रात गलवान घाटी में हुई झड़प के बाद से अबतक चीन ने अपने जवानों की शहादत को माना नहीं है. लेकिन भारत के प्रधानमंत्री ने न सिर्फ अपने जवानों की शहादत को याद किया, बल्कि उनका मनोबल बढ़ाने लेह भी पहुंच गए.