Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना को प्रदेश के सभी 91 निकायों में प्रभावी ढंग से क्रियान्वित किये जाने के दिये निर्देश
  • राज्यसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी नरेश बंसल ने किया नामांकन दाखिल
  • राज्यसभा चुनाव 2020: उत्तराखंड से नरेश बंसल के नाम पर मुहर, 50 साल की सेवा का मिला ईनाम
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने रिंग रोड, देहरादून में आयुष हाॅस्पिटल एवं वेलनेस सेंटर का लोकार्पण किया
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश वासियों को दी विजयादशमी एवं दशहरा पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएँ

पंजाब, हरियाणा और यूपी में पराली जलाए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट हुआ सख्त!

नई दिल्ली,। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली के पड़ोसी राज्यों पंजाब, हरियाणा और यूपी में पराली जलाए जाने की समस्या पर नियंत्रण के लिये पूर्व जज जस्टिस मदन बी लोकुर की एक सदस्यीय कमेटी का गठन किया। चीफ जस्टिस एसए बोब्डे ने कहा कि हम चाहते है कि दिल्ली-एनसीआर के लोगों को सांस लेने की स्वच्छ हवा उपलब्ध हो। कोर्ट ने हरियाणा और पंजाब सरकार के वकीलों से पूछा कि क्या उनके पास एनसीसी कैडेट्स की पर्याप्त संख्या है जो पराली की समस्या को लेकर जागरुकता फैलाने के लिए किसानों के यहां जाकर पराली न जलाए जाने की अपील कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जस्टिस लोकुर समिति हरेक 15 दिन में सुप्रीम कोर्ट को पराली जलाने की गतिविधि रोकने के मसले पर रिपोर्ट देगी। संबंधित राज्य सरकारें इस कमेटी को उचित सुविधा मुहैया कराएंगी। सेक्रेटेरिएट, सुरक्षा और फाइनेंशियल सुविधाएं मुहैया कराएंगी। मामले पर अगली सुनवाई 26 अक्टूबर को होगी।

Leave a Reply