Breaking News
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने गुरू नानक जयंती की प्रदेशवासियों को दी शुभकामनाएं
  • मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आगामी कुम्भ को लेकर मेलाधिकारी कुम्भ, जिलाधिकारी हरिद्वार के साथ ही शासन के उच्चाधिकारियों से प्राप्त किये सुझाव
  • मुख्यमंत्री ने कोविड-19 के दृष्टिगत आगामी कुम्भ मेले में स्वास्थ्य एवं सुरक्षा से सम्बन्धित व्यवस्थाओं पर की चर्चा
  • महाकुंभ 2021: लगेंगे सभी अखाड़ों के शिविर, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की बैठक में कई प्रस्ताव पास
  • ऋषिकेश: राम, लक्ष्मण और जानकी के बाद अब आकार लेगा बजरंग पुल, दिखेगी केदारनाथ मंदिर की झलक

प्रदेश सरकार ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

देहरादून, न्यूज़ आई। नैनीताल हाईकोर्ट के फैसले से असहज प्रदेश सरकार ने अब सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। राज्य सरकार ने बुधवार देर सायं सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी (विशेष अनुमति याचिका) दायर की है। पूरे मामले को लेकर भाजपा ने आरोपों को सिरे से नकार दिया है। प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि हाईकोर्ट के आदेश का सम्मान करते हैं, लेकिन मुख्यमंत्री पर भ्रष्टाचार के आरोप बेबुनियाद हैं। बुधवार को भाजपा मंडल प्रशिक्षण वर्ग के उद्घाटन में हरिद्वार पहुंचे प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत ने कहा कि त्रिवेंद्र रावत ईमानदार हैं और उनके नेतृत्व में सरकार पूरी पारदर्शिता से कार्य कर रही है। उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री पर कोई भी व्यक्ति भ्रष्टाचार के आरोपों को सिद्ध नहीं कर सकता है। उल्लेखनीय है कि हाईकोर्ट ने मंगलवार को पत्रकार उमेश जे कुमार के खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों को निरस्त करने का आदेश दिया था। साथ ही उमेश की याचिका में लगाए आरोपों के आधार पर सीबीआई को एफआईआर दर्ज करने का आदेश भी दिया था। कोर्ट ने कहा, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ लगे आरोपों को देखते हुए यह सही होगा कि सच सामने आए। यह राज्य हित में होगा कि संदेहों का निवारण हो।