Breaking News
  • महाकुंभ 2021: पेशवाई में बैरागियों ने दिखाए करतब, हेलीकॉप्टर से बरसे फूल, श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़
  • महाकुंभ: 151 शंखों के नाद के साथ कुंभ का विधिवत आगाज, हरकी पैड़ी पर गूंजे मां गंगा और महादेव के जयघोष
  • उत्तराखंड : नए स्ट्रेन ने बढ़ाई मुश्किल, जवानों के लिए कुंभ के साथ कोरोना की दोहरी चुनौती
  • उत्तराखंड: मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने दी कोरोना को मात, कार्यालय में पूजा अर्चना कर की काम की शुरुआत
  • उत्तराखंड में कोरोना: मंगलवार को 24 घंटे में सामने आए 791 संक्रमित, सात मरीजों की हुई मौत 

आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा: कंगना रनौत

मुंबई, 09 सितंबर। बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने बुधवार को अपने पाली हिल स्थित कार्यलय पर बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के बुलडोजर चलाये जाने के बाद सीधे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर निशाना साधते हुए कहा है कि आज मेरा घर टूटा है कल तेरा घमंड टूटेगा। अभिनेत्री कंगना का अभी तक वाकयुद्ध शिवसेना के प्रमुख प्रवक्ता संजय राउत से चल रहा था और दोनों एक-दूसरे पर शब्दों के बाणों से हमला कर रहे थे। अब कंगना ने सीधे शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे पर निशाना साधा है।
उधर, BMC की कार्रवाई के बाद कंगना रनौत और आक्रामक हो गई हैं. कंगना रनौत ने एक वीडियो ट्वीट करके महाराष्ट्र सरकार पर हमला बोला है. कंगना रनौत ने कहा कि उद्धव ठाकरे तुझे क्या लगता है? कि तूने फिल्म माफिया के साथ मिलकर, मेरा घर तोड़कर मुझसे बहुत बड़ा बदला लिया है? आज मेरा घर टूटा है, कल तेरा घमंड टूटेगा. ये वक्त का पहिया है, याद रखना, हमेशा एक जैसा नहीं रहता.
बॉम्बे उच्च न्यायालय ने आज कंगना रनौत के कार्यालय के तोड़फोड़ पर रोक लगा दी और बीएमसी से जवाब मांगा है। इस मामले पर गुरुवार को सुनवाई होगी। बता दें कि न्यायमूर्ति एसजे काथावाला कंगना रनौत की तरफ से दायर याचिका पर सुनवाई की। याचिका में अभिनेत्री के कार्यालय में अवैध निर्माण के लिए बीएमसी की ओर से जारी नोटिस को चुनौती दी गई थी। न्यायालय ने बीएमसी से यह भी जानना चाहा कि उसने कैसे परिसर में प्रवेश किया। न्यायालय ने निर्देश दिया कि बीएमसी याचिका के जवाब में हलफनामा दायर करे।
वहीं, बीएमसी के एक्शन पर शिवसेना नेता संजय राउत ने बोला कि अब ये पूरा एक्शन हाई कोर्ट के पास पहुंच गया है, ऐसे में अब बीएमसी ही अदालत में जवाब देगी. संजय राउत ने कहा कि कोई एक्शन बदले की भावना का नहीं है, मुंबई में पूरे देश के लोग आकर रहते हैं.