Breaking News
  • व्यापक जनहित को ध्यान में रखते हुए लिया गया देवस्थानम बोर्ड एक्ट को वापस लेने का निर्णयः सीएम
  • चार धाम तीर्थ पुरोहितों, रावल समाज, पंडा समाज, हक हकूक धारियों ने सीएम का जताया आभार
  • देवस्थानम बोर्ड : सीएम धामी ने सहजता, सरलता और सूझबूझ से सुलझाया मुद्दा, चुनाव से ठीक पहले एक तीर से साधे कई निशाने
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने एड्स जागरूकता के लिए कार्य करने वालों को सीएम ने किया सम्मानित
  • डबल इंजन की सरकार उत्तराखण्ड को देश का एक सर्वश्रेठ राज्य बनाने के लिए दृढ़ संकल्प: मुख्यमंत्री

विकास दुबे का करीबी अमर दुबे पुलिस मुठभेड़ में मारा गया

हमीरपुर के मौदाहा में मुठभेड़ में पुलिस ने विकास दुबे का दाहिना हाथ माने जाने वाले अमर दुबे को मार गिराया है. अमर को विकास दुबे गैंग का शातिर बदमाश माना जाता है.
2 जुलाई की रात कानपुर देहात के बिकरू गांव में शूटआउट के मामले में भी अमर दुबे की तलाश थी. यूपी पुलिस ने जिन अपराधियों की तस्वीरें जारी की थी, उसमें अमर दुबे का नाम सबसे ऊपर था. पुलिस ने उस पर 25 हजार का इनाम भी घोषित किया था. एक न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक, वो मुख्य आरोपी विकास दुबे के चचेरे भाई का लड़का था.
हमीरपुर के एसपी श्लोक कुमार का कहना है कि अमर दुबे की छिपे होने की सूचना पर पुलिस टीम ने घेराबंदी की थी. इस दौरान अमर ने फायरिंग शुरू कर दी. जवाबी एनकाउंटर में वह मार गिराया गया. उसके पास से एक ऑटोमेटिक हथियार और बैग मिला है. इस एनकाउंटर में एसओ और एसटीएफ के एक कॉन्स्टेबल को गोली लगी है.
इस बीच एसटीएफ विकास दुबे को तो नहीं पकड़ पाई लेकिन उसने प्रभात और अंकुर नाम के उसके दो करीबियों को गिरफ्तार कर लिया है. अंकुर के बारे में बताया जाता है कि उसी ने फरीदाबाद में विकास दुबे के छिपने में मदद की थी. वो विकास दुबे के लिए होटल बुक करने की कोशिश कर रहा था.