Breaking News
  • अंतिम पंक्ति पर खड़े लोगों तक सरकार की योजनाओं को पहुंचाने के प्रयास किये जा रहे हैं: सीएम पुष्कर सिंह धामी
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा प्रदेश के समग्र विकास के लिए हरसंभव प्रयास किये जा रहे हैं
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सर्वे चौक स्थित आईआरडीटी सभागार में उत्तराखण्ड जन विकास समिति के ‘‘पहल 2021’’ अधिवेशन का शुभारम्भ किया
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द ही मैत्रैयी नाम से छात्राओं के लिए मेंटरशिप कार्यक्रम प्रारंभ किया जाएगा इसके लिए एक पोर्टल भी विकसित किया जा रहा है
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने टाॅप करने वाली मेधावी बालिकाओं को स्मार्ट फोन वितरित किये

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने प्रदेशवासियों से की अपील हम सब 5 अगस्त को दिये जलाकर दीपावली मनाएं

देहरादून, न्यूज़ आई: मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि बुधवार 05 अगस्त को देश के लिए स्वर्णिम अवसर आ रहा है, जब देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर भव्य एवं दिव्य श्रीराम मंदिर निर्माण हेतु भूमि एवं शिलापूजन के साथ आधारशिला रखेंगे।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि अयोध्या में मर्यादा पुरूषोत्तम राम के मन्दिर निर्माण को लेकर कई युद्ध लड़े गये, सैकड़ो लोगों ने इसके लिये बलिदान दिया। हमारे देश एवं हमारी संस्कृति के मानबिन्दुओं वाले स्थानों को अत्याचारियों द्वारा नष्ट करने का प्रयास किया गया। अब सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय एवं केन्द्र सरकार के प्रयासों से अयोध्या में भगवान श्रीराम के मन्दिर की पुर्नप्रतिष्ठा होगी। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि हम इस अवसर पर अपने घरों में दीपावली मनाएं, दिये जलायें। भगवान श्रीराम दुनिया के एकमात्र ऐसे चरित्र हैं, जिन्हें मर्यादा पुरूषोत्तम के नाम से जाना जाता है। उन्होंने भगवान श्रीराम जन्मभूमि के लिए बलिदानियों का स्मरण भी किया।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि अयोध्या में बनने वाला श्रीराम मंदिर करोड़ों लोगों की आस्था से जुड़ा है। भगवान श्रीराम सनातन संस्कृति, मानवता, नैतिकता, प्रेम व सद्भाव के प्रतीक हैं। भगवान श्रीराम का यह मंदिर देश व दुनिया में अपनी विशिष्टता के लिए पहचाना जायेगा। जब प्रधानमंत्री जी श्रीराम जन्मभूमि पर भूमि पूजन करेगें, इसका साक्षी बनने के लिए देश और समाज के सभी क्षेत्रों एवं वर्गों में काफी उत्साह है।