Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने की विद्यालयी शिक्षा विभाग की समीक्षा, शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिये जाने के दिये निर्देश
  • छात्रों को अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर शिक्षा प्रदान करने के लिये विद्यालयों में अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर के गेस्ट टीचरों की, की जायेगी व्यवस्था
  • प्रदेश में कक्षा 9 से 12 तक के सभी वर्गों के छात्रों को भी अगले वर्ष से निशुल्क उपलब्ध करायी जायेगी पाठ्य पुस्तकें
  • मुख्यमंत्री ने उद्योग विभाग द्वारा आयोजित आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर वाणिज्य उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने “अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद“ के अध्यक्ष श्री महंत नरेन्द्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया

मुख्य सचिव ने रुड़की-देवबंद रेल परियोजना की प्रगति की समीक्षा की

देहरादून, न्यूज़ आई। सचिवालय सभागार में मुख्य सचिव ओम प्रकाश की अध्यक्षता में 27.45 कि.मी लम्बी नई रुड़की-देवबंद रेल परियोजना की अद्यतन प्रगति की समीक्षा बैठक हुई। वर्तमान में रेल लाइन देवबंद से सहारनपुर होकर रुड़की आती है, इस दूको कम करने के लिये यह नई रेल लाइन बनाई जा रही है। रूड़की-देवबंद नई रेल लाइन परियोजना को प्रारम्भ करने की भारत सरकार द्वारा 50-50 प्रतिशत के आधार पर स्वीकृति प्रदान की गई थी। वित्तीय वर्ष 2017-18 में पुनरीक्षित द्वितीय आगणन के अनुसार परियोजना की लागत 791 करोड़ है।
बैठक में सचिव परिवहन शैलेश बगोली तथा अपर सचिव नियोजन मेजर योगेन्द्र सिंह उपस्थित थे। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से रेलवे विभाग के अधिकारी तथा जिलाधिकारी हरिद्वार सी. रविशंकर जुड़े। बैठक में मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने इस परियोजना में आने वाले उत्तर प्रदेश राज्य के सहारनपुर जनपद के तहसील देवबंद के 14 गांवों के भूमि अधिग्रहण प्रकरणों में तेजी लाने के लिये उनकी ओर से उत्तर प्रदेश शासन को पत्र भेजने के निर्देश दिये। ज्ञातव्य है, कि इस योजना में उत्तर प्रदेश राज्य के 14 गांव आते हैं जिनमें से 12 गांवों में अभी अधिग्रहण के प्रकरण लम्बित हैं।
मुख्य सचिव द्वारा इस परियोजना के कार्य में तेजी के लिये राज्यांश की 50 करोड़ की और राशि रेलवे विभाग को तुरंत जाकरने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी हरिद्वार ने बताया कि उत्तराखण्ड राज्य के परियोजना क्षेत्र में आने वाले 04 ग्राम यथा साल्हापुर, वहस्तीपुर, रहमपुर एवं पनियाला चन्दापुर में परियोजना में आने वाली भूमि का अधिग्रहण का कार्य किया जा चुका है। अवशेष 04 ग्रामों में अधिग्रहण प्रकरण लम्बित होने का कारण, इन ग्रामीणों की मांग प्रभावित परिवारों के लिये अधिगृहीत की जाने वाली भूमि के मुआवजे में वृद्धि की मांग है। मुख्य सचिव ने जिलाधिकारी हरिद्वार सी. रविशंकर को प्रकरणों को शीघ्र निपटाने के लिये सेवा निवृत्त रिटायर्ड सीनियर आईएएस अधिकाको आर्बिट्रेटर के रूप में नियुक्त करने का प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिये। मुख्य सचिव ने रेलवे अधिकारियों को लिटिगेशन से सम्बन्धित प्रकरण जिलाधिकारी हरिद्वार को परीक्षण हेतु संदर्भित करने के निर्देश दिये। परियोजना में तेजी लाने के लिये आगामी 17 अगस्त को मुख्य सचिव ने पुनः बैठक बुलाने के निर्देश दिये।