Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने की विद्यालयी शिक्षा विभाग की समीक्षा, शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिये जाने के दिये निर्देश
  • छात्रों को अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर शिक्षा प्रदान करने के लिये विद्यालयों में अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर के गेस्ट टीचरों की, की जायेगी व्यवस्था
  • प्रदेश में कक्षा 9 से 12 तक के सभी वर्गों के छात्रों को भी अगले वर्ष से निशुल्क उपलब्ध करायी जायेगी पाठ्य पुस्तकें
  • मुख्यमंत्री ने उद्योग विभाग द्वारा आयोजित आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर वाणिज्य उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने “अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद“ के अध्यक्ष श्री महंत नरेन्द्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने वाह्य सहायतित परियोजनाओं के अंतर्गत संचालित परियोजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के दिये निर्देश

देहरादून, न्यूज़ आई: मुख्य सचिव श्री उत्पल कुमार सिंह ने वाह्य सहायतित परियोजनाओं के अंतर्गत संचालित परियोजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाने के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा कि पूर्व निर्धारित परियोजनाओं का यथासमय पूर्ण होने पर अन्य योजनाओं को मंजूरी मिलने में मदद मिलेगी। उन्होंने परियोजनाओं के क्रियान्वयन में आ रही कठिनाईयों का निराकरण भी समयबद्वता के साथ किये जाने के निर्देश दिये हैं। शुक्रवार को मुख्य सचिव सभागार में वाह्य सहायतित परियोजनाओं के तहत विभिन्न विभागों के स्तर पर संचालित परियोजनाओं की समीक्षा करते हुए मुख्य सचिव ने कहा कि सभी सम्बन्धित विभाग संचालनाधीन, परियोजनाओं पर विशेष ध्यान देकर उन्हें पूर्ण करने का प्रयास करें। उन्होंने विकेन्द्रीकृत जलागम विकास परियोजना, बांध पुनर्वास, एकीकृत आजीविका सुधार, वन प्रबंधन एवं पर्यटन के लिये अवस्थापना विकास एवं निवेश कार्यक्रम के क्षेत्र में किये गये कार्यों पर संतोष व्यक्त करते हुए अन्य विभागों को उनके द्वारा संचालित की जा रही परियोजनाओं को पूर्ण करने में तेजी लाने को कहा।
बैठक में बताया गया कि वाह्य सहायतित परियोजना के तहत 6818.68 करोड़ की विभिन्न विभागों द्वारा 10 परियोजनाएं संचालित की जा रही है। वन, आजीविका मिशन, जलागम विकास, आपदा प्रबंधन, ऊर्जा, पेयजल, वित्त, पर्यटन, कौशल विकास एवं चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के द्वारा कुल 2257.30 करोड़ लक्ष्य की प्रतिपूर्ति किये जाने के सापेक्ष 1724.92 करोड़ की प्रतिपूर्ति गत वर्ष के अंत तक हो सकी है।
बैठक में यह भी जानकारी दी गई कि उद्यान, पेयजल, नगर विकास, एम.एस.एम.ई, सिंचाई, पर्यटन एवं लोक निर्माण विभाग से सम्बन्घित विभिन्न योजनाओं के लिये 12906 करोड़ के प्रस्तावों को वित्त मंत्रालय, भारत सरकार के स्तर पर संस्तुति प्रदान की गई हैं जिसके लिए फण्डिंग एजेंसी की स्वीकृति प्रक्रिया गतिमान है।
मुख्य सचिव ने कहा कि परियोजनाओं के क्रियान्वयन में शीघ्रता लाये जाने के साथ ही प्रगति के अनुरूप धनराशि की प्रतिपूर्ति के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये भी समेकित प्रयास किये जाने चाहिए। उन्होंने योजनाओं की प्रगति की नियमित समीक्षा किये जाने के भी निर्देश दिए हैं।
बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रीमती मनीषा पंवार, प्रमुख सचिव श्री आनन्द वर्द्धन, सचिव वित्त श्री अमित नेगी, सचिव पर्यटन श्री दिलीप जावलकर, सचिव श्रीमती सौजन्या, श्री रणजीत सिन्हा, श्री एस.ए. मुरूगेशन, अपर सचिव नियोजन मेजर योगेन्द्र यादव, अपर सचिव सुश्री सोनिका, अमिता जोशी, उदय राज सिंह सहित अन्य विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।