Breaking News
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने ऋषिकेश में जन आशीर्वाद रैली में प्रतिभाग किया, इस अवसर पर उन्होंने 12 घोषणा की
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मे भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का सपना भी साकार हो रहा है: सीएम धामी
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और केंद्र सरकार के सहयोग से उत्तराखण्ड में विकास के नये आयाम स्थापित हुए हैं
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके जन्मदिन की हार्दिक बधाई दी
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी

दुनिया की कोई भी ताकत भारत-नेपाल के रिश्ते को तोड़ नहीं सकती: राजनाथ सिंह

नई दिल्ली: भारत-नेपाल का रिश्ता ‘रोटी-बेटी’ का है. दुनिया की कोई भी ताकत इस रिश्ते को तोड़ नहीं सकती. भारत और नेपाल के बीच यदि कोई गलतफहमी है, तो हम उसे बातचीत के जरिये सुलझाएंगे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ये बातें उत्तराखंड के बीजेपी कार्यकर्ताओं को ‘जनसंवाद रैली’ के माध्यम से संबोधित करने के दौरान कहीं.
उन्होंने आगे कहा, “हमारे यहां गोरखा रेजिमेंट ने समय-समय पर अपने शौर्य का परिचय दिया है. उस रेजिमेंट का उद्घोष है कि ‘जय महाकाली आयो री गोरखाली.” महाकाली तो कलकत्ता, कामाख्या और विंध्यांचल में विद्यमान हैं तो कैसे भारत और नेपाल का रिश्ता टूट सकता है? मैं विश्वास के साथ कहना चाहता हूं कि भारतीयों के मन में कभी भी नेपाल को लेकर किसी भी प्रकार की कटुता पैदा हो ही नहीं सकती है. इतना गहरा संबंध हमारे साथ नेपाल का है. हम मिल बैठकर इन सब समस्याओं का समाधान करेंगे.” उन्होंने अपने संबोधन में कहा, “लिपुलेख में सीमा सड़क संगठन द्वारा बनाई गई सड़क एकदम भारतीय सीमा के भीतर है.”
भारत और नेपाल के बीच करीब 1800 किलोमीटर की सीमा है. सीमा पूरी तरह से खुली है. भारत-नेपाल सीमा के दोनों ओर कई गांव बसे हैं. कई गांव सीमा से सटकर बसे हैं. इससे व्यापार सहित अन्य गतिविधियां एक दूसरे के सहारे होती हैं. नेपाल क्षेत्र के पहाड़ी इलाकों में बसे गांवों के लोगों को राशन के लिए भी भारतीय बाजारों या गांवों का सहारा लेना पड़ता है. खुली सीमा के कारण आने जाने में कोई दिक्कत नहीं होती है. नेपाल के कुछ किसान भारतीय क्षेत्र में खेती करते हैं तो कुछ भारतीय क्षेत्र के किसान नेपाल क्षेत्र में रहकर व्यापार करते हैं और शाम को अपने घर चले आते हैं. दोनों देशों की सीमा में लगे गांवों के लोगों के एकदूसरे के क्षेत्र में शादी-संबंध भी हैं.