Breaking News
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने ऋषिकेश में जन आशीर्वाद रैली में प्रतिभाग किया, इस अवसर पर उन्होंने 12 घोषणा की
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मे भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का सपना भी साकार हो रहा है: सीएम धामी
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और केंद्र सरकार के सहयोग से उत्तराखण्ड में विकास के नये आयाम स्थापित हुए हैं
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके जन्मदिन की हार्दिक बधाई दी
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी

सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली-हरियाणा और उत्तर प्रदेश बॉर्डर सील मामले में की सुनवाई

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने आज दिल्ली, उत्तर प्रदेश और हरियाणा में सीमा खोलने के मामले में सुनवाई की. इस दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि होम सेकेट्री ने तीनों राज्यों की मीटिंग बुलाई थी. हरियाणा और दिल्ली ने कहा कि दो राज्यों के बीच आवागमन में अब कोई रुकावट नहीं है. बॉर्डर खोल दिए गए हैं, लेकिन उत्तर प्रदेश ने कहा कि दिल्ली में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए बॉर्डर पूरी तरह से नहीं खोले जा सकते. SG ने कहा कि उत्तर प्रदेश केवल जरूरी सामानों के लिए ही सीमा खोलने को राजी है. उत्तर प्रदेश सरकार के वकील ने कहा की दिल्ली में कोरोना के मामले 32 हजार को पार कर गए हैं और मरने वालों की संख्या 1000 से ऊपर है जबकि नोएडा और गाजियाबाद में मरने वालों की संख्या 40 है. पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के NCR क्षेत्र में आवागमन के लिए एक सुसंगत नीति होनी चाहिए. कोर्ट ने कहा था कि वर्तमान हालात में एक नीति, एक रास्ता और एक पोर्टल बनाया जाए. कोर्ट ने कहा था कि सभी राज्य इसके लिए एक समान नीति तैयार करें. कोर्ट ने कहा कि एक हफ्ते के भीतर एक नीति तैयार हो.दिल्ली-हरियाणा और उत्तर प्रदेश बॉर्डर सील मामले में