Breaking News
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने “अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद“ के अध्यक्ष श्री महंत नरेन्द्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया
  • मुख्यमंत्री ने राजपुर रोड स्थित होटल में आयोजित सम्मान समारोह में कोरोना योद्धाओं को प्रशस्ति पत्र एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया
  • मुख्यमंत्री ने किया मसूरी विधानसभा क्षेत्र की 70 करोड़ रूपये की योजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने ऋषिकेश में जन आशीर्वाद रैली में प्रतिभाग किया, इस अवसर पर उन्होंने 12 घोषणा की
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मे भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का सपना भी साकार हो रहा है: सीएम धामी

बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधा मुफ्त मुहैया करवाने की दिशा में कार्य किया जाएगाः आनंद

देहरादून, न्यूज़ आई: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल एवं उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से मुलाकात कर लौटे आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता रविंद्र सिंह आनंद ने कहा कि प्रदेश में चुनाव लड़ने को लेकर पार्टी का विजन बिल्कुल साफ है और जिन मूल भूत सुविधाओं से उत्तराखण्ड की जनता त्रस्त है उन्ही को लेकर आम आदमी पार्टी जनता के बीच उतरेगी। बिजली, पानी, शिक्षा, स्वास्थ्य को मुफ्त मुहैया करवाने के क्षेत्र में ही कार्य किया जाएगा। आज दिल्ली को लोग एक रोल माॅडल के रूप में देख रहे है। वही सुविधाए उत्तराखण्ड की जनता को भी मिले इसी दिशा में कार्य किया जाएगा।
आनंद ने बताया कि उनकी मुलाकात अरविंद केजरीवाल एवं मनीष सिसोदिया से आगामी चुनाव में जनता की एक्सपेक्टेशन और कार्यनीति को लेकर ही थी। श्री केजरीवाल ने इसी बात पर जोर दिया कि सबसे पहले उत्तराखण्ड राज्य में बिजली और पानी मुफ्त होनी चाहिए। जिस राज्य में बिजली बन रही है और इतने प्राकृतिक स्त्रोत है, जहां से गंगा और यमुना अवतरित होती है वहीं पर लोगों को बिजली और पानी के इतने भारी बिल भरने पड़ रहे है। श्री केजरीवाल ने कहा कि यहां इतना उत्पादन है कि वे अन्य राज्यों को स्पलाई कर रहे हैं तो उसके बाद भी यदि जनता को बिजली के बिलों से भी मुक्त न किए जाए यह उत्तराखण्ड की जनता के साथ सरासर अन्याय है। वहीं मनीष सिसोदिया ने कहा कि शिक्षा हर बच्चे का अधिकार है और उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों का बुरा हाल है। वे उत्तराखण्ड के सरकारी स्कूलों को ऐसा बनाना चाहते है कि यह एक मिसाल हो और फिर कोई शिक्षा मंत्री यह न कह सके के यदि सस्ती शिक्षा चाहिए तो सरकारी स्कूलों में जाओं। उत्तराखण्ड के सरकारी स्कूलों को माॅडल स्कलों के रूप में स्थापित किया जाएगा। यहां पर स्वास्थ्य सुविधाएं ऐसी होनी चाहिए कि महिलाओं के प्रसव जंगलों में हीं न हो जाए। उन्होंने कहा कि इस वक्त की बात की जाए तो प्रदेश की जनता ने दोनों की पार्टियों का कार्य देेखा है और दोनों की पार्टियों ने केवल जनता का मूर्ख बना कर अपना उल्लू सीधा किया है वहीं जनता अब दिल्ली में केजरीवाल जी का काम भी देख रही है कि वे जनहित में ही कार्य कर रहे है चाहे वह बिजली हो पानी हो, शिक्षा हो या स्वास्थ्य का क्षेत्र हो आम जनता को हर जगह सर्वोपरी रखा जा रहा है। अभी कोविड की बात करें तो उसमें भी दिल्ली ने एक माॅडल प्रस्तुत किया है जबकि हमारे यहां पूरी सरकार ही कोरंटीन हो गई थी। प्रेस वार्ता के दौरान प्रदेश मीडिया प्रभारी डॉ राकेश काला, सचिव राकेश बहुगुणा, महासचिव विशाल चौधरी, मीडिया सह प्रभारी अभिषेक बहुगुणा, देवेश्वर भट्ट, सतीश शर्मा आदि उपस्थित थे।