Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि चुनाव से पहले प्रदेश की जनता से किए गए वादों के अनुरूप काम कर रही है सरकार
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि लोकतंत्र के लिए पत्रकारिता एक महत्वपूर्ण स्तंभ
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने नैनीताल क्लब में आम जनता की समस्याओं को सुना
  • सासंद राज्य सभा उत्तराखंड नरेश बंसल ने भगवान बद्री विशाल के दर्शन किए
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उ0प्र0 के मत्स्य पालन मंत्री  संजय निषाद ने भेंट की

समान नागरिक संहिता पर कांग्रेस का विरोध उसकी तुष्टिकरण की राजनीति का प्रमाणः डा. भसीन

देहरादून, न्यूज़ आई । भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र भसीन ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में समान नागरिक संहिता लागू करने के निर्णय लिए जाने का स्वागत करते हुए कांग्रेस द्वारा इस पर सवाल खड़े किए जाने की आलोचना की है। उन्होंने यह भी कहा है कि कांग्रेस ने हमेशा तुष्टिकरण की राजनीति की है और अब जब सही दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं तो कांग्रेस परेशान है।
एक बयान में भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र भसीन ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विधानसभा चुनाव से पूर्व घोषणा की थी कि भाजपा के  सत्ता में आने पर समान नागरिक संहिता को राज्य में लागू किया जाएगा। अब इस घोषणा को कार्यान्वित करते हुए उनके नेतृत्व में राज्य कैबिनेट ने समान नागरिक संहिता लागू करने का जो निर्णय लिया है वह ऐतिहासिक है और इसका भारतीय जनता पार्टी स्वागत करती है। उन्होंने कहा कि इससे यह भी साफ है कि भाजपा ने चुनाव पूर्व जनता से जो वादे किए। धामी के नेतृत्व में सरकार उन्हें पूरा करने के लिए तत्पर है।
डॉ भसीन ने कांग्रेस द्वारा समान नागरिक संहिता पर सवाल खड़े किए जाने की आलोचना करते हुए कहा कि इससे साफ है कि कांग्रेस देश में तुष्टिकरण की राजनीति को बढ़ावा देने में विश्वास करती है ,उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेताओं को पता होना चाहिए कि समान नागरिक संहिता लागू किया जाना, संविधान सम्मत है। डॉ भसीन का कहना था कि संविधान के नीति निर्देशक तत्वों के अनुच्छेद 44 में देश में समान नागरिक संहिता लागू करने का उल्लेख किया गया है। इसके अलावा यह कार्य राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में भी हैं और गोवा इसका उदाहरण है। इसके अलावा  उच्चतम न्यायालय ने भी देश में समान नागरिक संहिता लागू करने पर जोर दिया है। लेकिन अफसोस की बात यह है कि कांग्रेस को न ये बातें समझ में आती है और न ही वह देश हित में इन बातों पर विचार करने को तैय्यार है। कांग्रेस का सिद्धांत समाज में विभाजन करके सत्ता में आने का रहा है। लेकिन देश की जनता कांग्रेस के खेल को पहचान गई है और इसीलिए कांग्रेस समापन की ओर बढ़ रही है। कांग्रेस का यही रवैया आने वाले दिनों में कांग्रेस के इतिहास में समेट देगा, यह बात भी दिखाई दे रही है।