Breaking News
  • एचआईवी संक्रमण मुक्त उत्तराखंड को लेकर गंभीर धामी सरकार
  • एक्शन में स्वास्थ्य सचिव डॉ. आर. राजेश कुमार, उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग में जल्द भरें जायेंगे खाली पड़े पद
  • उत्तराखंड में धर्मांतरण पर बना सख्त कानून, देशभर के साधु-संतों में हर्ष की लहर, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को मिल रही शुभकामनाएं
  • प्रदेश में धर्मान्तरण पर रोक सम्बंधित कानून बना
  • महिलाओं को सरकारी नौकरियों के क्षैतिज आरक्षण का बना कानून

किसान संगठनों का आंदोलन शुक्रवार को 37वें दिन भी जारी

नयी दिल्ली: कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमा पर किसान संगठनों का आंदोलन शुक्रवार को 37वें दिन भी जारी रहा। किसानों ने नव वर्ष के अवसर पर कीर्तन भजन किया और एक दूसरे को नये साल की शुभकामनाएं दी। तीन नए कृषि कानूनों को रद्द कराने को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसान इस मुद्दे पर सरकार के साथ आर-पार की लड़ाई का ऐलान कर चुके हैं। किसानों ने सरकार से जल्द उनकी मांगें मानने की अपील की है। दूसरी ओर केंद्र सरकार इन कानूनों में किसी तरह के बदलाव के लिए तैयार नहीं दिखती। इस बीच प्रदर्शन कर रहे एक किसान की दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई है।
पी गेट बॉर्डर पर आज एक किसान गल्तान सिंह पंवार (57) की मौत हो गई। वह गांव भगवानपुर नागल, जिला बागपत के रहने वाले थे। गल्तान सिंह आंदोलन में शुरू से ही शामिल थे। मौत की वजह अभी साफ नहीं हो सकी है। मौत का कारण हार्ट अटैक माना जा रहा है। तबीयत खराब होने पर उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।