Breaking News
  • ज्यपाल लेफ्टिनेंट (से.नि.) जनरल गुरमीत सिंह ग्रीष्मकालीन प्रवास पर राजभवन नैनीताल पहुंचे।
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया 113.34 करोड़ की योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण
  • मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने चारधाम यात्रा के सम्बन्ध में सम्बन्धित जनपदों के जिलाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ली बैठक
  • प्रदेश के कैबिनेट मंत्री प्रेम चन्द अग्रवाल द्वारा शहरी विभाग के अन्तर्गत देहादून स्मार्ट सिटी के सम्बन्ध में विधान सभा में बैठक ली
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड के पूर्व  पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी द्वारा लिखित उपन्यास “भंवर एक प्रेम कहानी“ का विमोचन किया

आगामी चुनाव में हरीश रावत हो सकते हैं कांग्रेस के सीएम उम्‍मीदवार !

देहरादून, न्यूज़ आई। उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक दलों ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। इसके तहत ही कांग्रेस जल्द ही बड़ा ऐलान कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस हरीश रावत को मुख्यमंत्री पद के लिए अपना उम्मीदवार बना सकती है। हरीश रावत को कैंपेन कमेटी का चेयरमैन भी बनाया जाएगा। बताया जा रहा है कि हरीश रावत को सीएम उम्मीदवार के लिए मनाने की कोशिश चल रही है। इसके अलावा मौजूदा प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह को विधानसभा में विपक्ष का नेता बनाने की तैयारी है। इनकी जगह ब्राह्मण चेहरा गणेश गोदियाल को पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया जा सकता है।
उत्तराखंड में अगले साल के शुरू में ही विधानसभा चुनाव होने हैं। बीजेपी ने पुष्कर सिंह धामी को मुख्यमंत्री बनाकर युवा नेतृत्व और 60 प्लस सीटें जीतने के नारे के साथ 2022 के विधानसभा चुनाव में उतरने के संकेत दिए हैं। बताया जा रहा है कि कांग्रेस मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने को लेकर हरीश रावत और प्रीतम सिंह के बीच उलझी थी, लेकिन अब हरीश रावत को ही प्रत्‍याशी बनाना लगभग तय कर लिया गया है। बताया जा रहा है कि उत्तराखंड के नेताओं के साथ कांग्रेस हाईकमान ने दो दिनों तक मंथन कर पार्टी के सियासी हालात को सामान्य कर करने की कोशिश की। सूत्रों के मुताबिक, प्रीतम सिंह प्रदेश संगठन की कमान अपने करीबी कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भुवन कापड़ी को देना चाहते हैं। इसके लिए उन्होंने प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ने के लिए यही शर्त भी रखी है कि उनके करीबी शख्स को संगठन की कमान सौंपी जाएगी। कापड़ी ब्राह्मण समुदाय से भी आते हैं और मौजूदा समय में प्रदेश महामंत्री हैं। वहीं, हरीश रावत ब्राह्मण समाज से आने वाले पूर्व विधायक गणेश गोदियाल को प्रदेश अध्यक्ष के तौर पर देखना चाहते हैं। गोदियाल उनके करीबी माने जाते हैं। बताया जा रहा है कि गोदियाल के नाम पर लगभग सहमति बन गई है। लेकिन सूबे के जातीय समीकरण के चलते फॉर्मूला तय नहीं हो पा रहा है।