Breaking News
  • उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी को बड़ा झटका लगा है, कर्नल अजय कोठियाल ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को राजधानी देहरादून स्थित आरटीओ कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया
  • केंद्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने आंधी और तूफान से हुए जान माल के नुकसान की जानकारी अधिकारियों से ली
  • मुख्य सचिव ने प्रधानमंत्री गति शक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान की बैठक के दौरान अधिकारियों को पीएम गतिशक्ति के कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि चुनाव से पहले प्रदेश की जनता से किए गए वादों के अनुरूप काम कर रही है सरकार

अंबेडकर जयंती पर मायावती ने विरोधी दलों की सरकारों लगाया पर आरोप

लखनऊ।  उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने गुरुवार को अंबेडकर जयंती के अवसर पर विरोधी दलों की सरकारों को जातिवादी करार देते हुए आरोप लगाया है कि जातिवादी सरकारें उपेक्षित वर्ग के नेताओं को अपने समाज का भला करने की छूट नहीं देती हैं और यदि कोई कुछ करने का प्रयास करता है तो उसे दूध में पड़ी मक्खी की तरह निकाल कर बाहर कर दिया जाता है।
मायावती ने संविधान निर्माता डा भीमराव अंबेडकर की 131वें जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए देश में आज भी दलित और उपेक्षित समाज की दयनीय स्थिति को अत्यंत दुखद बताया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर अपने संदेश में कहा, संविधान शिल्पी परमपूज्य बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर उनके अनुयाइयों की ओर से उन्हें शत्-शत् नमन व हार्दिक श्रद्धा-सुमन। करोड़ों कमजोर व उपेक्षित वर्गों तथा मेहनतकश समाज आदि के हित व कल्याण के प्रति उनके महान व ऐतिहासिक योगदान के लिए देश हमेशा ऋणी व कृतज्ञ।
उन्होंने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और अन्य विरोधी दलों पर आरोप लगाते हुए कहा, जातिवादी सरकारें उपेक्षित वर्ग के नेताओं को अपने समाज का भला करने की छूट नहीं देती हैं। यदि कोई कुछ करने का प्रयास करता है तो उसको दूध की मक्खी की तरह निकाल-बाहर कर दिया जाता है, जैसाकि अब तक यहाँ होता रहा है। इसीलिए इन वर्गों की हालत अभी तक मजबूर व लाचार, यह अति-दुःखद।