Breaking News
  • उत्तराखण्ड सरकार अग्निवीरों के सुरक्षित भविष्य के लिए उन्हें नियोजित करने का ठोस कार्यक्रम तैयार करने जा रही है
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर ठोस कार्यक्रम को दिया जा रहा है फाइनल टच
  • राज्य में अग्निवीरों को नियोजित करने की योजना लागू करने की तैयारी
  • मुख्यमंत्री धामी ने समस्त प्रदेशवासियों से की वृक्षारोपण करने की अपील
  • सीएम धामी ने ’एक पेड़ माँ के नाम’ अभियान के अंतर्गत अपनी माँ के साथ किया वृक्षारोपण

नए भारत के इतिहास में आज का दिन स्वर्णाक्षरों में होगा अंकित, प्रधानमंत्री ने देश के लोकतांत्रिक इतिहास में नया अध्याय जोड़ दिया है: नरेश बंसल

देहरादून, न्यूज़ आई : सासंद राज्य सभा उत्तराखंड नरेश बंसल ने नए संसद भवन को देश को आदरणीय प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा समर्पित करने व सनातन परंपरा से पूर्ण विधि विधान से इसके लोकार्पण को ऐतिहासिक क्षण बताया है।सासंद बंसल ने इसे नए भारत नया सदन बताया है।सांसद बंसल ने कहा कि नए भारत के इतिहास में आज का दिन स्वर्णाक्षरों में अंकित होगा। नये भारत के संकल्पों और आकांक्षाओं के प्रतीक, नये संसद भवन को आज राष्ट्र के प्रति समर्पित करके प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने देश के लोकतांत्रिक इतिहास में नया अध्याय जोड़ दिया है।सासंद बंसल ने कहा कि नए संसद भवन के शुभारंभ का यह अवसर हर भारतीय के लिए गौरवान्वित करने वाला क्षण है।

सासंद बंसल ने कहा कि यह भवन 140 करोड़ भारतवासियों की आकांक्षाओं और सपनों का प्रतिबिंब है। यह भवन विश्व को भारत के दृढ संकल्प का संदेश देता हमारे लोकतंत्र का मंदिर है।

सासंद राज्य सभा उत्तराखंड नरेश बंसल ने कहा कि भारत भूमि की संस्कृति की विशालता, भव्यता और आधुनिकता को संजोये एक भारत श्रेष्ठ भारत की भावना से बुने ‘नए संसद भवन’ के उद्घाटन के शुभ अवसर का साक्षी बनना मेरे लिये गर्व की बात है।

सासंद नरेश बंसल ने कहा कि विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत के नव संसद भवन पर हर हिंदुस्तान वासी अपनी संस्कृति,विरासत और जीवंत लोकतंत्र पर गर्व करेगा।उन्होंने रिकॉर्ड समय मे इसे पूरा करने के लिए आदरणीय प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी जी का हार्दिक आभार एवं धन्यवाद वयक्त किया है।

सासंद बंसल ने कहा कि 100 साल पहले अंग्रेजों द्वारा बनाए गए संसद भवन की तुलना में नया संसद भवन भारतीय संस्कृति के अनेकों धरोहर व चिन्हों, सेंगोल आदी से सुसज्जित लोकसभा में 888 सदस्यों की क्षमता वाला एंव राज्यसभा में 384 सदस्यों की क्षमता वाला नया संसद भवन 21 सदी की आवश्यकता के अनुरुप अभूतपूर्व अलौकिक विशाल भवन है।यह जहाँ आधुनिक है वही हमारी वैभव पूर्ण संस्कृति व विरासत को संजोय है।

सासंद ने कहा कि राज्यसभा के सदस्य के रूप में नये और पुराने दोनों संसद भवन में राष्ट्रहित एवं संवैधानिक मूल्यों की समृद्धि के प्रति योगदान देने का अवसर मिलना परम् सौभाग्य का विषय है।उन्होंने इसे अपनी राजनीतिक यात्रा का निःसंदेह एक अविस्मरणीय अध्याय बताया ।

सासंद बंसल ने कहा कि मेरा हृदय अत्यंत प्रफुल्लित है।आज सभी भारतवासी भी कितने उत्साहित होंगे।
सासंद नरेश बंसल ने कहा कि आज़ादी के अमृतकाल की बेला में माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा समर्पित नवनिर्मित संसद भवन लोकतंत्र के प्रति हमारी आस्था को और अधिक प्रबलता प्रदान करेगा।

सासंद राज्य सभा उत्तराखंड नरेश बंसल ने कहा कि नए संसद भवन में बैठकर आज दासता के प्रतीकों से मुक्त होने की सुखद अनुभूति हुई।उन्होंने कहा कि आज का दिन मेरे और हम सभी देशवासियों के लिए अविस्मरणीय है। संसद का नया भवन हम सभी को गर्व और उम्मीदों से भर देने वाला है।

बीजेपी सांसद ने कहा कि पूरी दुनिया आज पीएम मोदी का गुणगान कर रही है पर विपक्षी पार्टियां विरोध कर रही हैं, विपक्ष का यह आचरण बहुत गलत है।सांसद बंसल ने कहा कि नया संसद भवन हमारे कारीगरों, आर्किटेक्चर ने बनाया है ।हम लोग अंग्रेजों की गुलामी के चिन्ह से दूर जा रहे हैं।इसके लिए भारत पूरे विश्व में जाना जा रहा है।ऐसे में जो विपक्षी दल विरोध कर रहे हैं, वह आने वाली पीढ़ियों को क्या मुंह दिखाएंगे।

सासंद ने कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास है कि यह हमारे लोकतंत्र का जीवंत प्रतीक नए और मजबूत भारत की बुलंद आधारशिला बनेगा।