Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस लाइन में प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द एवं बैरक का किया शिलान्यास
  • प्रदेशवासियों को जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा मिलेगी, इसमें घर बैठे ही एफआईआर दर्ज कराई जा सकेगी
  • आकाश अंबानी होंगे रिलायंस जियो इनफोकॉम के नए चेयरमैन
  • सीएम धामी ने पीएम मोदी से की भेंट, जीएसटी क्षतिपूर्ति की अवधि बढ़ाने का किया अनुरोध
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सैनिक स्कूल के लिए वित्तीय सहायता प्रदान किये जाने का किया रक्षा मंत्री से अनुरोध

गैरसैंण में सत्र कराने की बात कहकर अब सरकार खुद उलझन मेंः प्रीतम सिंह

देहरादून, न्यूज़ आई । गैरसैंण में बजट सत्र के आयोजन को लेकर ऊहापोह पर पूर्व नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार पर सवाल उठाया है। बकौल प्रीतम, सरकार को सोच-विचार कर यह तय करना चाहिए कि सत्र का आयोजन करना कहां है‌? कांग्रेस तो सत्र के लिए कहीं भी जाने को तैयार है गैरसैंण में सत्र कराने की बात कहकर अब सरकार खुद उलझन में फंसी दिखाई दे रही है।
शुक्रवार को प्रीतम ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ तहसील परिसर में नेहरू वार्ड देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को श्रद्धाजंलि दी। इस मौके पर मीडिया से बातचीत में प्रीतम ने कहा कि गैरसैंण को लेकर भाजपा और भाजपा की सरकार कभी गंभीर नहीं रहे। गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने की घोषणा तो कर दी गई, लेकिन सरकार एक दिन भी गैरसैंण से नहीं चली। होना तो यह चाहिए था कि सरकार के मंत्री, अधिकारी भी ग्रीष्मकाल में गैरसैंण में ही रहते और वहां से सरकार का संचालन करते। लेकिन भारतीय जुमला पार्टी के नेताओं को केवल राजनीति करना और आम आदमी के भावनाओं के साथ खिलवाड़ करना ही आता है।
प्रीतम ने कहा कि कांग्रेस जनभावनाओं के अनुसार गैरसैंण के प्रति शुरू से ईमानदार रही है। गैरसैण का एक सुनियोजित तरीके से विकास का सिलसिला कांग्रेस सरकार ने ही शुरू किया। जब से भाजपा की सरकार प्रदेश में आई, तब से इन सभी विकास कार्यों को ही भुला दिया गया।