Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने की विद्यालयी शिक्षा विभाग की समीक्षा, शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिये जाने के दिये निर्देश
  • छात्रों को अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर शिक्षा प्रदान करने के लिये विद्यालयों में अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर के गेस्ट टीचरों की, की जायेगी व्यवस्था
  • प्रदेश में कक्षा 9 से 12 तक के सभी वर्गों के छात्रों को भी अगले वर्ष से निशुल्क उपलब्ध करायी जायेगी पाठ्य पुस्तकें
  • मुख्यमंत्री ने उद्योग विभाग द्वारा आयोजित आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर वाणिज्य उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने “अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद“ के अध्यक्ष श्री महंत नरेन्द्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया

योजनाओं की प्रगति बढ़ाने के लिए डे-बाई-डे मॉनिटरिंग करेंः मुख्य सचिव

देहरादून, न्यूज़ आई। ‘‘बाह्य सहायतित योजनाओं की प्रगति बढ़ाने के लिए डे-बाई-डे मॉनिटरिंग करें‘‘ मुख्य सचिव डॉ एस.एस. संधु ने सचिवालय सभागार में उत्तराखण्ड में चल रही बाह्य सहायतित परियोजनाओं की समीक्षा बैठक के दौरान विभिन्न विभागीय सचिवों और अधिकारियों को उपरोक्त दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि बाह्य सहायतित परियोजनाएं उत्तराखण्ड के विकास के लिये बहुत महत्वपूर्ण हैं। इसको देखते हुए विभागीय सचिव यह सुनिश्चित करें कि विभाग में इसके अंतर्गत चल रहे विकास कार्यों की प्रगति अनिवार्य रूप से बहुत तेजी से बढ़ाई जाए। इसके लिए उन्होंने फाइलों की रूटीन प्रक्रिया से बाहर निकलते हुए हाथों-हाथ फाइल की मूवमेंट बढ़ाने और विकास कार्यों की दैनिक निगरानी करने के अधिकारियों को निर्देश दिए।
मुख्य सचिव ने नियोजन विभाग को निर्देशित किया कि विभिन्न विभागों के कार्यों की बेहतर मॉनिटरिंग सुनिश्चित करने और प्रगति बढ़ाने में मदद करने के लिए ऑनलाइन सिस्टम डेवलप करें तथा परियोजनाओं के अन्तर्गत कार्यों को पूर्ण करने की निर्धारित टाइमलाईन के अनुसार उसकी फीडबैक लेते रहे। उन्होंने सम्बन्धित विभागों को निर्देशित किया कि विकास कार्यों की डीपीआर बनाते समय स्थानीय धरातल के व्यवहारिक पहुलओं को ध्यान में रखते हुए डी.पी.आर बनायें। साथ ही प्रगति बढ़ाने के लिए विभिन्न वित्तीय ऐजेंसियों से लगातार समन्वय करें। इसके लिए वित्तीय ऐजेंसियों को अपने टारगेट से अवगत कराते हुए तद्नुसार अग्रिम कार्य करें।
मुख्य सचिव ने उद्यान विभाग के अन्तर्गत किसानों-कास्तकारों के हित लाभ हेतु चलाई जा रही फल उद्यान डेवलप करने की योजनाओं में तेजी लाने के निर्देश दिये तथा वन विभाग को प्लान्टेशन के कार्यों का नियमित थर्ड पार्टी सत्यापन करवाने के भी निर्देश दिये। उन्होंने पेयजल निगम को जल जीवन मिशन के अंतर्गत पेयजल और सीवरेज प्रबंधन के कार्यों की प्रगति बढ़ाने के लिये अधिक उत्सुकता से कार्य करने के निर्देश देते हुए कहा कि योजना के अंतर्गत प्राप्त बजट का तेजी से और गुणवत्तापूर्ण उपयोग सुनिश्चित करें।
बैठक में सिंचाई विभाग, शहरी विकास विभाग, स्मार्ट सिटी, पर्यटन विभाग, उद्यान विभाग, उत्तराखण्ड पॉवर कॉरपोरेशन लिमिटेड, पिटकुल, वन विभाग, पेयजल निगम आदि विभिन्न विभागो ने विश्व बैंक, एशियाई विकास बैंक, जायका, ब्रिक्स, एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट बैंक इत्यादि बाह्य सहायतित ऐजेंसियों से पोषित परियोजनाओं की वर्तमान स्टेट्स से राज्य स्तरीय समितियों को प्रस्तुतीकरण के माध्यम से अवगत कराया। इस दौरान बैठक में अपर मुख्य सचिव मनीषा पंवार, सचिव शैलेश बगोली व हरीश चन्द्र सेमवाल, प्रभारी सचिव वी षणमुगम, अपर सचिव नेहा वर्मा, युगल किशोर पंत, रामविलास यादव, जिलाधिकारी देहरादून डॉ आर राजेश कुमार, निदेशक उद्यान डॉ एच.एस. बनेजा, निदेशक यूटीडीबी दीपक खण्डूरी, निदेशक यूपीसीएल सतीश चन्द्र, निदेशक पिटकुल अनिल कुमार, एम.डी पेयजल निगम उदय राज सिंह समेत संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।