Breaking News
  • मानसून के दृष्टिगत मरीजों और गर्भवती महिलाओं के लिए आपातकालीन स्थिति में हेली एम्बुलेंस की व्यवस्था रखी जाए
  • 15 जून से पहले मानसून के दृष्टिगत सभी तैयारियां पूर्ण की जाए- मुख्यमंत्री
  • अजय टम्टा को मोदी सरकार में मिली बड़ी जिम्मेदारी, बने केंद्रीय सड़क एवं परिवहन राज्य मंत्री
  • अजय टम्टा कुमाऊं से केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले छठे सांसद
  • बुजुर्ग की लाठी बने सीएम धामी, पुष्कर धामी ने तुरंत किया समस्या का समाधान !

उत्तराखंडः मसूरी में बिना आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट के बाहरी राज्यों के पर्यटकों की नो एंट्री

देहरादून, न्यूज़ आई। वीकेंड पर मसूरी में अब बाहरी राज्यों के पर्यटक बिना आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट के नहीं घुस पाएंगे। इसके लिए पुलिस किमाड़ी और कुठालगेट में प्रभावी चेकिंग चलाकर लोगों की आरटीपीसीआर रिपोर्ट, रजिस्ट्रेशन और होटल बुकिंग संबंधी दस्तावेज चेक करेगी। इसके अलावा सहस्रधारा सहित अन्य पर्यटन स्थलों में भी भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्रयास किए जाएंगे।
इसके साथ ही मसूरी से करीब 16 किलोमीटर दूसर स्थित टिहरी जिले के प्रमुख पर्यटक स्थल कैंपटीफॉल झरने में अब एक बार में 50 पर्यटक ही नहा पाएंगे। कैंपटीफॉल जाने वाले पर्यटकों की संख्या को भी नियंत्रित करने का प्रयास प्रशासन ने किया है। बीते दिनों कैंपटीफॉल झरने के वीडियो वायरल हुए थे। इनमें देखा जा सकता है कि कैसे लोग कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं। इसे लेकर एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चेताया था। जिसके बाद प्रशासन ने सख्ती बरती है। कोरोना संक्रमण कम होने के कारण राज्य सरकार ने कई व्यावसायिक व पर्यटन से जुड़ी गतिविधियों में छूट दी है। इसके कारण मसूरी सहित दून के प्रमुख पर्यटन स्थलों पर वीकेंड पर जमकर भीड़ उमड़ रही है। पर्यटकों की ओर से कोविड नियमों का उल्लंघन भी किया जा रहा है। बढ़ती भीड़ को नियंत्रित करने के लिए एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने शुक्रवार को पुलिस अधिकारियों की बैठक कर इसके लिए कार्ययोजना तैयार की है। इसके तहत मसूरी में वीकेंड में भीड़ कम करने के लिए बिना आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट के बाहरी राज्यों के पर्यटकों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया गया है।