Breaking News
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने ऋषिकेश में जन आशीर्वाद रैली में प्रतिभाग किया, इस अवसर पर उन्होंने 12 घोषणा की
  • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मे भारत को विकसित राष्ट्र बनाने का सपना भी साकार हो रहा है: सीएम धामी
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन और केंद्र सरकार के सहयोग से उत्तराखण्ड में विकास के नये आयाम स्थापित हुए हैं
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उनके जन्मदिन की हार्दिक बधाई दी
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने विश्वकर्मा जयंती के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई एवं शुभकामनाएं दी

कल लाल किले की प्राचीर से होगा पीएम मोदी का संबोधन, पहली बार वायुसेना करेगी फूलों की बारिश

नई दिल्ली, न्यूज़ आई। 75वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले के प्राचीर से संबोधित करेंगे. इस दौरान ओलंपिक गेम्स में गोल्ड मेडल जीतने वाले नीरज चोपड़ा सहित 32 खिलाड़ी मौजूद रहेंगे. साथ ही दर्शक-दीर्घा में कोविड-वॉरियर्स के लिए अलग एक एनक्लोजर बनाया गया है. पहली बार वायुसेना के हेलीकॉप्टर इस दौरान फूलों की बरसात करेंगे.

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक, क्योंकि देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है इसलिए इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह बेहद खास रहने वाला है. सुबह 7.18 पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लाल किले के लाहौरी गेट पर पहुंचेंगे. इससे पहले वे राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर फूलमाला अर्पित करेंगे. लाल किले पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा राज्यमंत्री, अजय भट्ट, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, रक्षा सचिव अजय कुमार और सेना की तीनों अंगों के प्रमुख आगवानी करेंगे.
रक्षा सचिव प्रधानमंत्री को दिल्ली एरिया के जीओसी, लेफ्टिनेंट जनरल विजय कुमार से मुखातिब करेंगे. जीओसी उसके बाद पीएम को लाल किले पर तीनों अंगों (थलसेना, वायुसेना और नौसेना) की टुकड़ियों की सलामी लेंगे. इस दौरान दिल्ली पुलिस की एक सलामी टुकड़ी भी वहां मौजूद रहेगी. इन टुकड़ियों में 20-20 सैनिक और पुलिसकर्मी मौजूद रहेंगे.
लाल किले पर 75वें स्वतंत्रता दिवस समारोह की जिम्मेदारी नौसेना के हवाले है. इसीलिए, इंटर-सर्विस और पुलिस गार्ड की कमान नौसेना के कमांडर, पीयूष गौर के पास रहेगी. इसके अलावा नौसेना की कमान, लेफ्टिनेंट कमांडर सुने फोगट, वायुसेना की स्कॉवड्रन लीडर ए बेरवाल और थलसेना की मेजर विकास सांगवान के पास होगी. दिल्ली पुलिस की कमान, एडिशनल डीसीपी, सुबोध कुमार गोस्वामी के पास होगी.

सशस्त्र बलों की सलामी के बाद जीओसी प्रधानमंत्री को लाल किले के प्राचीर पर लेकर पहुंचेंगे. वहां पीएम को तिरंगा फहराने में नौसेना की लेफ्टिनेंट कमांडर, पी. प्रियम्बदा साहू करेंगी. ध्वजारोहण के साथ ही राष्ट्रगान की धुन बजेगी. राष्ट्रगान की धुन इंटर-सर्विस बैंड द्वारा दी जाएगी, जिसकी कमान रहेगी एमसीपीओ विंसेट जॉनसनके पास होगी
धवजारोहण के वक्त 21 तोपों की सलामी भी दी जाएगी. थलसेना की 2233 फील्ड बैटरी (सेरिमोनियल) इन तोपों की सलामी देगी. इस बैटरी की कमान होगी लेफ्टिनेंट कर्नल जितेंद्र सिंह मेहता के पास. धवजारोहण के वक्त थलसेना, वायुसेना, नौसेना और दिल्ली पुलिस की अलग अलग टुकड़ियां राष्ट्र-सैल्यूट देंगी. ध्वजारोहण के तुरंत बाद भारतीय वायु‌सेना के दो मी-17 हेलीकॉप्टर फूलों की बौछार करेंगे. इन हेलीकॉप्टर्स के पायलट विंग कमांडर बलदेव सिंग बिष्ट और विंग कमांडर निखिल मेहरोत्रा हैं.

फूलों की बौछार के बाद पीएम मोदी देश को संबोधित करेंगे. हर साल की तरह इस बार भी देश-दुनिया की निगांहें पीएम के भाषण पर होंगी. स्पीच के बाद एनसीसी के करीब 500 कैडेट्स राष्ट्रगान गाएंगे.