Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस लाइन में प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द एवं बैरक का किया शिलान्यास
  • प्रदेशवासियों को जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा मिलेगी, इसमें घर बैठे ही एफआईआर दर्ज कराई जा सकेगी
  • आकाश अंबानी होंगे रिलायंस जियो इनफोकॉम के नए चेयरमैन
  • सीएम धामी ने पीएम मोदी से की भेंट, जीएसटी क्षतिपूर्ति की अवधि बढ़ाने का किया अनुरोध
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सैनिक स्कूल के लिए वित्तीय सहायता प्रदान किये जाने का किया रक्षा मंत्री से अनुरोध

प्रदेश एवं देश की सुख शान्ति के लिए कांग्रेस ने की ’’सर्वधर्म समभाव’’ प्रार्थना सभा

देहरादून, न्यूज़ आई । हमारे भारत देश की पूरे विश्व में एक अलग पहचान है। इसकी पहचान है अनेकता में एकता, इसकी पहचान है सर्वधर्म समभाव, वह पहचान है वसुधैव कुटुम्बकम की, वह पहचान है विष्व के सबसे बडे लोकतंत्र के रूप में, सबसे अनूठे संविधान के रूप में हमारा देष जाना जाता है। जिस तरह से हमारे देष में अलग-अलग धर्म के, जाति के, समुदाय के, वर्ग के अलग-अलग बोली भाषा, पहनावा, खानपान और संस्कृति के लोग एक साथ एक गुलदस्ते की भॉति सौहार्दपूर्ण माहौल में रहते हैं उसी के लिए हमारा देश ख्याती प्राप्त है। हमारा देश विविधताओं का देश है इसकी संस्कृति और सभ्यता अमूल्य धरोहर है। हमारे वेद पुराण हमें सदभाव सहिश्णुता एव विश्व शांति का संदेश देते है।
परन्तु आज हमारे देश की सामाजिक समरसता एवं ताने बाने को छिन्न भिन्न करने का कुचक्र रचा  जा रहा है। आज देश में धार्मिक उन्माद फैलाकर सामाजिक व राजनैतिक सौहार्द को बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है जिसको कांग्रेस पार्टी कभी भी कामयाब नही होने देगी और भाजपा की फांसीवादी मंसूबों को सफल नही होने देगी। आज देश एवं प्रदेश में चल रही इन्ही चिन्ताजनक स्थितियों के बीच उत्तराखण्ड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष करन माहरा के आह्वान पर भारी संख्या में कांग्रेसजनोें ने गांधी पार्क स्थिति महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष सर्वधर्म समभाव सभा का आयोजन किया गया। सभा में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने 20 मिनट मौन रखकर विश्वशान्ति हेतु अर्न्तमन से प्रार्थना की। तदोपरान्त राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी के प्रिय भजन ’रघुपति राघव राजा राम पतित पावन सीता राम ईश्वर अल्लाह तेरो नाम सबको संनमति दे भगवान, वैष्णव जन तो तेने कहिये, जे पीड परायी जाणे रे, दे दी हमें आजादी बिना खडग बिना ढाल, साबरमती के संत तूने कर दिया कमाल इत्यादि भजन गाये  गए।