Breaking News
  • उत्तराखंड में सूचीबद्व न्यूज पोर्टल पत्रकारों ने वरिष्ठ पत्रकार मनोज इष्टवाल के नेतृत्व में देहरादून सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात की
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हमारी सरकार के 100 दिन संकल्प, समर्पण एवं प्रयास को समर्पित रहे
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सरकार के 100 दिन पूर्ण होने के अवसर पर 100 दिन विकास के, समर्पण और प्रयास के , विकास पुस्तक का विमोचन किया
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा न्यूज पोर्टल पत्रकारों के हितों को किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं होने दिया जायेगा
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पत्रकारों की सात सूत्रीय मांग पर सचिव सूचना क़ो जारी किये दिशा-निर्देश.!

चंपावत उपचुनावः सीएम समेत चार प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद, 64 प्रतिशत मतदान हुआ

चंपावत/देहरादून, न्यूज़ आई । चंपावत उपचुनाव को लेकर मतदाताओं में खासा उत्साह दिखा। मंगलवार को सुबह से ही मतदान केंद्रों पर वोटरों की कतार लगी रही। शाम तक आए आंकड़ों के मुताबिक 64 प्रतिशत मतदान हुए हैं। मुख्यमंत्री सहित चार प्रत्याशियों की किस्मत ईवीएम में कैद हो गई है। मंगलवार को शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव संपन्न हुआ। महिला मतदाता पारंपरिक परिधानों में वोट डालने पहुंचीं। वहीं युवाओं और बुजुर्गों में भी भरपूर उत्साह दिखा। 76 मतदान केंद्रों में वेबकास्टिंग की गई। चार बूथों में ईवीएम, वीवीपैट आदि खराब होने से एक घंटे तक वोटिंग बाधित रही। मौसम ने भी कुछ देर मतदान की रफ्तार को रोका।
वहीं सीएम धामी ने देहरादून से चंपावत उपचुनाव पर पूरी नजर रखी। दून जाने से पहले टनकपुर-बनबसा के 15 से अधिक बूथों पर सीएम धामी पहुंचे। उनकी पत्नी गीता धामी भी लोगों से मिलीं। उधर, मतदान को लेकर जहां भाजपा में उत्साह था वहीं 90 प्रतिशत बूथों पर कांग्रेस के बस्ते नहीं थे। प्रशासन पर पक्षपात का आरोप लगा शाम चार बजे कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी धरने पर बैठीं। चंपावत उपचुनाव में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी समेत चार प्रत्याशी मैदान में हैं। विधानसभा चुनाव में मुख्यमंत्री धामी को खटीमा से हार का मुंह देखना पड़ा था, ऐसे में क्षेत्र के पूर्व विधायक कैलाश गहतोड़ी ने यह सीट उनके लिए खाली कर दी थी। उत्तराखंड की पांचवीं विधानसभा के लिए 15 फरवरी को हुए मतदान के 106 दिन बाद 31 मई को चंपावत में दूसरी बार मतदान हुआ। चुनाव की तमाम अनिश्चितताओं के बावजूद उपचुनाव के नतीजे को लेकर खास संशय नहीं है, लेकिन भाजपा की सारी कोशिश इससे आगे की है। उसका लक्ष्य इस चुनाव में इतिहास रचने का है। वह इसमें कामयाब होगी या नहीं? इस जवाब से भविष्य की सियासत की दिशा तय होगी।
टनकपुर मंडी समिति बूथ पर चुनाव को लेकर मतदाताओं में काफी उत्साह दिखा। वोटिंग शुरू होने से पूर्व ही मतदान स्थलों पर मतदाता लंबी कतार में खड़े हो गए थे। महिला मतदाताओं की संख्या मतदान स्थल पर ज्यादा नजर प आई। मतदान स्थल पहुंचकर तहसीलदार ज्योति धपवाल ने यहां पहला वोट डाला। गोरलचौड़ मैदान से महज सौ मीटर की दूरी पर स्थित होने के कारण सोमवार को सबसे पहले प्राथमिक विद्यालय चंपावत का मतदान दल मतदान केंद्र पर पहुंचा।  प्राथमिक विद्यालय को आदर्श बूथ भी बनाया गया है। जवाहर नवोदय विद्यालय को सखी बूथ बनाया गया। इसमें सभी महिला कर्मचारियों ने मतदान प्रक्रिया पूरी कराई। चंपावत के आदर्श मतदान केंद्र पर पहुंचे वोटरों को मतदान टीम ने पहले मास्क दिए गए। वहीं उपचुनाव को शांतिपूर्वक संपन्न कराने के लिए सोमवार को सुरक्षाकर्मियों, जोनल और सेक्टर मजिस्ट्रेटों की ब्रीफिंग की गई। डीएम और एसपी ने मतदान दलों के साथ रवाना होने वाले सुरक्षाकर्मियों को उनकी ड्यूटी बताई। सीएम पुष्कर सिंह धामी ने चंपावत उपचुनाव को लेकर कहा कि यह अब पार्टी के बारे में नहीं है, बल्कि विकास के बारे में है। लोग बड़ी संख्या में विकास के लिए मतदान करने पहुंचे। इस बार वोटिंग प्रतिशत बहुत ज्यादा होगा। शत-प्रतिशत मतदाता के साथ इस चुनाव के ऐतिहासिक परिणाम होंगे। कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोड़ी ने चंपावत उपचुनाव में उनके एजेंटों को धमकाने का आरोप लगाया है। बाहरी विधायकों और बीजेपी नेताओं के चंपावत में चुनाव को प्रभावित करने का आरोप लगाते वह कलक्ट्रेट में धरने पर बैठ गई हैं। उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण ढंग से चल रहे मतदान में खलल पैदा किया गया।