Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस लाइन में प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द एवं बैरक का किया शिलान्यास
  • प्रदेशवासियों को जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा मिलेगी, इसमें घर बैठे ही एफआईआर दर्ज कराई जा सकेगी
  • आकाश अंबानी होंगे रिलायंस जियो इनफोकॉम के नए चेयरमैन
  • सीएम धामी ने पीएम मोदी से की भेंट, जीएसटी क्षतिपूर्ति की अवधि बढ़ाने का किया अनुरोध
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सैनिक स्कूल के लिए वित्तीय सहायता प्रदान किये जाने का किया रक्षा मंत्री से अनुरोध

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले कर्मवीरों को किया सम्मानित

देहरादून, न्यूज़ आई: मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय देहरादून में आयोजित कार्यक्रम में कोरोना काल में सराहनीय कार्य करने वाले कर्मवीरों को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर पर्यावरण मित्रों, स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिस एवं प्रशासन के अधिकारियों तथा इस दौरान विभिन्न माध्यमों से जन सेवा करने वाले लोगों को भी सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में नर्सिंग ऑफिसर सुश्री शिवानी, सुश्री रामेश्वरी के साथ ही कोविड के दौरान सराहनीय कार्य करने वाले श्री प्यार सिंह, श्री कृष्णा प्रसाद एवं स्वास्थ्य, पुलिस, प्रशासन एवं सामाजिक क्षेत्र में कार्य करने वालों को सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन कोरोना कर्मवीरों को सम्मान दिया जा रहा है, उन्होंने कोविड काल में अपनी जिम्मेदारी को सामाजिक जिम्मेदारी मानव सेवा समझकर कार्य किया। ऐसे अनेक लोगों ने इस दौरान सराहनीय कार्य किया। उन्होंने कहा कि आज देश कोरोना के संकट से तेजी से उभर रहा है। किसी भी समस्या के समाधान के लिए जागरूकता का होना बहुत जरूरी है। देश एवं प्रदेश में कोरोना के प्रभावी नियंत्रण में जन जागरूकता की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि 15 मार्च 2020 को उत्तराखण्ड में कोरोना का पहला मामला आया था। कोविड के दौरान जनहित में कड़े निर्णय भी लेने पड़े। इसके परिणामस्वरूप राज्य आज कोविड को नियंत्रित करने की स्थिति में हैं। कोविड के दौरान राज्यवासियों का सरकार को पूरा सहयोग मिला। गरीबों एवं असहायों की मदद के लिए अनेक लोग आगे आये। हमारे वैज्ञानिकों के अथक प्रयासों से आज भारत में वैक्सीन ही नहीं बन रही है, बल्कि दुनियां के 20 देशों को भारत वैक्सीन दे रहा है। वसुधैव कुटुम्बकम की भारत की जो सोच रही है, उस दिशा में कार्य हो रहा है। कोविड के दौरान हमारे अनेक स्वास्थ्य कर्मियों ने अपना बलिदान दिया।
इस अवसर पर ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय के चांसलर प्रो. कमल घनसाला, अमर उजाला के संपादक श्री संजय अभिज्ञान, ग्राफिक एरा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. आर. के शर्मा, श्री आर.जे.काव्य आदि उपस्थित थे।