Breaking News
  • सीएम पुष्कर सिंह धामी ने हल्द्वानी से मुनस्यारी, पिथौरागढ़, चम्पावत के लिए हेली सेवा का शुभारम्भ किया
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा परिवहन विभाग के प्रस्ताव को दी गई स्वीकृति
  • पुलिस एवं परिवहन की संयुक्त टीमों द्वारा गत वर्षो में यात्रा सीजन के दौरान हुई सड़क दुर्घटनाओं का डेथ ऑडिट करने के निर्देश
  • सीएम ने उच्च शिक्षा शोध प्रोत्साहन योजना एवं शोध अनुदान वितरण का भी शुभारंभ किया
  • सीएम पुष्कर सिंह धामी ने उच्च शिक्षा विभाग के अन्तर्गत एनएसई की गौरव योजना का शुभारंभ किया

उत्तराखंड से राज्य सभा सांसद डॉ नरेश बंसल ने आपदा जोखिम न्यूनीकरण राष्ट्रीय मंच (NPDRR) की दो दिवसीय बैठक मे बतौर सदस्य किया प्रतिभाग

नई दिल्ली/देहरादून, न्यूज़ आई : उत्तराखंड से राज्य सभा सांसद डॉ नरेश बंसल को आपदा जोखिम न्यूनीकरण राष्ट्रीय मंच (NPDRR) की बैठक मे सदस्य के रूप में प्रतिभाग किया। हाल ही मे माननीय उपराष्ट्रपति व सभापति राज्य सभा आदरणीय श्री जगदीप धनकड़ जी के कार्यालय द्वारा सांसद राज्य सभा नरेश बंसल की NPDRR मे नियुक्ति की गई है। उन्हे केंद्रीय गृह मंत्री और सहकारिता मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता वाली इस समिति मे बतौर सदस्य नामित किया गया था।इस समिति में भारत सरकार के विभिन्न मंत्रियों के अलावा देश के राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हैं।सांसद बंसल ने बताया कि NPDRR के इस सत्र में केंद्रीय मंत्रियों, राज्यो के मुख्यमंत्रीयो, राज्यों के आपदा प्रबंधन मंत्रियों, सांसदों, स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियों, विशिष्ट आपदा प्रबंधन एजेंसियों के प्रमुखों, शिक्षाविदों, निजी क्षेत्र के संगठनों, मीडिया और नागरिक समाज संगठनों के प्रतिनिधियों सहित करीब 1,000 से अधिक विशिष्ट अतिथि भाग ले रहे हैं ।
सासंद बंसल ने कहा कि आदरणीय प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आपदा जोखिम न्यूनीकरण राष्ट्रीय मंच (NPDRR) के तीसरे सत्र का उद्घाटन किया । यह सत्र आपदा प्रबंधन के लिहाज से बेहद खास रहा क्योंकि अमृतकाल, और NPDRR के तीसरे सत्र के विचार-विमर्श से प्रधानमंत्री मोदी के विजन-2047 के तहत 2030 तक भारत को आपदा प्रतिरोधी बनाने में सरकार को मदद मिलेगी।आदरणीय प्रधान मंत्री जी ने इस बात पर जोर दिया की आपदा जोखिम न्यूनीकरण के जन सहभागिता अधिक से अधिक करने को कहा व नई टेक्नोलोजी को अधिक से अधिक आपदा जोखिम न्यूनीकरण के लिए इस्तमाल करने को कहा ।
सांसद राज्य सभा नरेश बंसल ने कहा कि गृह मंत्रालय (एमएचए), राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए), राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान (एनआईडीएम) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित एनपीडीआरआर में चार पूर्ण सत्र व एक मंत्रिस्तरीय सत्र शामिल होगा। यह सत्र आठ विषयगत होगा।
उद्घाटन समारोह के बाद केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में एक विशेष मंत्रिस्तरीय सत्र आयोजित किया जाएगा। इसमें केंद्र, राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के मंत्री विभिन्न स्तरों पर आपदा जोखिम न्यूनीकरण प्रणालियों को और मजबूत करने पर विचार-विमर्श करेंगे। दो दिनों में, विषय विशेषज्ञ, चिकित्सक, शिक्षाविद और प्रतिनिधि सेंडाई फ्रेमवर्क और पीएम मोदी द्वारा दिए गए आपदा जोखिम न्यूनीकरण पर 10 सूत्री एजेंडे के आधार पर आपदा जोखिम में कमी पर विभिन्न क्रॉस कटिंग मुद्दों पर विचार-विमर्श करेंगे।
सासंद राज्य सभा उत्तराखंड नरेश बंसल ने कहा कि इस सत्र के दौरान जोशीमठ में धंस रही जमीन की घटनाओं पर भी चर्चा हो सकती है। ऐसे में वहां की जांच रिपोर्ट पर भी बातचीत होने की संभावना है। ऐसी घटनाओं का मूल कारण क्या रहा है और भविष्य में उससे बचाव का तरीका क्या होगा, इस पर चर्चा की जा सकती है।सांसद बंसल ने कहा कि उत्तराखंड आपदा प्रभावित राज्य है ।इस मंच के माध्यम से राज्य मे आपदा न्यूनीकरण कैसे हो इस लक्ष्य को लेकर वह कार्य करेगे । सांसद नरेश बंसल ने कहा कि आपदा न्यूनीकरण अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा है इस पर प्रधान मंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत सरकार द्वारा बहुत कार्य किया गया है व इस मंच के माध्यम से वह ओर मजबूत होगा ।