Breaking News
  • उत्तराखंड में सूचीबद्व न्यूज पोर्टल पत्रकारों ने वरिष्ठ पत्रकार मनोज इष्टवाल के नेतृत्व में देहरादून सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात की
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हमारी सरकार के 100 दिन संकल्प, समर्पण एवं प्रयास को समर्पित रहे
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सरकार के 100 दिन पूर्ण होने के अवसर पर 100 दिन विकास के, समर्पण और प्रयास के , विकास पुस्तक का विमोचन किया
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा न्यूज पोर्टल पत्रकारों के हितों को किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं होने दिया जायेगा
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पत्रकारों की सात सूत्रीय मांग पर सचिव सूचना क़ो जारी किये दिशा-निर्देश.!

परिवहन मंत्री चंदन राम दास ने कहा रोडवेज कर्मचारियों से ज्यादा चिंता उनको यात्रियों और चालकों की

हल्द्वानी/देहरादून, न्यूज़ आई । परिवहन एवं समाज कल्याण मंत्री चंदन राम दास हल्द्वानी पहुंचे। जहां गोलापार स्थित सर्किट हाउस में उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान उन्होंने कहा उनके पास जनता से जुड़ी महत्वपूर्ण विभाग है। ऐसे में वह अपने विभागों की लगातार समीक्षा बैठक ले रहे हैं। अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि 100 दिन के भीतर सभी रोडमैप तैयार कर उनको उपलब्ध कराएं, जिससे परिवहन और समाज कल्याण विभाग की व्यवस्थाओं को ठीक किया जा सके।
परिवहन मंत्री चंदन राम दास ने कहा रोडवेज कर्मचारियों से ज्यादा चिंता उनको यात्रियों और चालकों की है। उनकी पहली प्राथमिकता होगी कि सबसे पहले यात्रियों को अच्छी सुविधा दी जाए। उसके बाद चालकों को नियमित तनख्वाह दिया जाए। ताकि चालकों का मनोबल बढ़े और रोडवेज की आय अच्छी हो सके। रोडवेज की आय बढ़ाने के लिए अब सीएनजी बसों के साथ-साथ इलेक्ट्रिक बसों पर जोर दिया जा रहा है। भविष्य में सीएनजी और इलेक्ट्रिक बसें ज्यादा से ज्यादा चलाई जाएंग।.उन्होंने कहा कि समाज कल्याण विभाग पहले से विवादित विभाग है। इसमें पूर्व में बहुत सारे भ्रष्टाचार के मामले आ चुके हैं। जिसमें अधिकतर मामला न्यायालय में हैं। ऐसे में फिर से कोई भ्रष्टाचार का मामला ना आए, इसको लेकर अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। यूपी सरकार से उत्तराखंड रोडवेज को 105 करोड़ रुपए मिले हैं, जिससे रोडवेज का घाटा कम हुआ है, लेकिन अभी भी रोडवेज करीब 350 करोड़ घाटे से गुजर रहा है। परिवहन मंत्री ने कहा अक्टूबर 2021 में एक आदेश पारित हुआ था, जिसमें कुछ रोडवेज डिपो को मर्ज करने की बात कही गई थी, जिसको उन्होंने स्थगित कर दिया है। भविष्य में रोडवेज की कोई भी डिपो मर्ज नहीं होंगे और भविष्य में और डिपो खोले जाएंगे।