Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी, मसूरी में सशक्त उत्तराखंड @25 चिंतन शिविर में किया प्रतिभाग
  • अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को ध्यान में रख बने योजनाएं: सीएम पुष्कर सिंह धामी
  • सशक्त उत्तराखण्ड @ 25 को साकार, करेगा चिंतन शिविरः सीएम पुष्कर सिंह धामी
  • विभागीय प्रक्रियाओं का सरलीकरण कर के समाधान का रास्ता निकालना हैः मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी
  • सशक्त उत्तराखंड @25 चिंतन शिविर का हुआ शुभारंभ, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने किया शुभारंभ

पोस्टल बैलेट्स में गडबड़ी की आशंका वाले वायरल वीडियों के बाद निर्वाचन में खलबली

देहरादून, न्यूज़ आई। उत्तराखंड में पोस्टल बैलेट्स में गड़बड़ी की आशंका वाले वायरल वीडियो को लेकर निर्वाचन कार्यालय गंभीर है। वीडियो के वायरल होने के बाद से खलबली मची हुई है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने सैन्य क्षेत्र की इस वीडियो को लेकर सभी रिटर्निंग अफसरों के माध्यम से सेना के अधिकारियों से जानकारी मांगी है। दरअसल, बुधवार को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने सोशल मीडिया में एक वीडियो जारी किया था, जिसमें सैन्य क्षेत्र में एक ही कर्मचारी सभी के नाम से पोस्टल बैलेट्स से मतदान कर रहा है। इस वीडियो में वही कर्मचारी सभी के हस्ताक्षर भी करता हुआ दिख रहा है। इस वीडियो को उन्होंने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को भी टैग किया था।शिकायत का संज्ञान लेने के बाद मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या ने सभी सैन्य क्षेत्रों से जुड़ी विधानसभाओं के रिटर्निंग अफसरों से जवाब मांगा है। यह रिटर्निंग अफसर, सेना के अफसरों से पोस्टल बैलेट्स से मतदान की प्रक्रिया को लेकर जवाब मांगेंगे। इसके बाद निर्वाचन कार्यालय को अपनी रिपोर्ट देंगे। इस रिपोर्ट के आधार पर चुनाव आयोग आगे का निर्णय लेगा। वहीं, मुख्य निर्वाचन अधिकारी सौजन्या का कहना है कि रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। इसके बाद बुजुर्ग जिनकी उम्र 80 वर्ष से अधिक है और दिव्यांग मतदाताओं के मतदान पर भी सवाल उठ गये हैं।
इस बार के विधानसभा चुनाव में पहली बार 80 वर्ष से अधिक आयु वाले और दिव्यांग मतदाताओं को घर से वोट डालने का विकल्प दिया गया था। कांग्रेस ने इस मतदान की प्रक्रिया पर भी सवाल खड़े किए हैं। कांग्रेस का कहना है कि तमाम विधानसभा क्षेत्रों में ऐसे मतदाता हैं, जिनकी जानकारी प्रत्याशियों को नहीं थी। उनका वोट भी डल गया, लेकिन उन्हें पता नहीं चला। कांग्रेस ने इसकी लिखित शिकायत निर्वाचन कार्यालय से की है, जिसकी जांच की जा रही है