Breaking News
  •  मुख्य सचिव डॉ. एस. एस. संधु ने प्रदेश के सभी कार्मिकों की एसीआर ऑनलाइन किए जाने के सम्बन्ध में निर्देश दिए
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वोत्तर राज्यों और देवभूमि उत्तराखण्ड के बीच प्राचीन काल से ही एक अनूठा संबंध रहा
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि नार्थ ईस्ट के साथ उत्तराखण्ड की कई मामलों में समानता है
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि युवा उद्यमियों द्वारा कृषि-स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने के लिए कृषि कोष बनाया जाएगा
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ने बजट को बताया शानदार

डबल इंजन की सरकार ने विकास को आगे ले जाने की जगह पीछे धकेलाः आर्येंद्र शर्मा

देहरादून, न्यूज़ आई। उत्तराखंड में जैसे-जैसे विधानसभा चुनाव की तारीख नजदीक आती जा रही है, वैसे ही उम्मीदवारों की कोशिशें भी जोर पकड़ रही हैं। कोरोना की वजह से चुनावी रैलियों पर फिलहाल चुनाव आयोग ने पूर्ण पाबंदी लगायी है। जिसकी वजह से प्रत्याशी जनसभा और नुक्कड़ सभा कर आम जानता से मुखातिब हो रहे हैं. इसी क्रम में राजधानी देहरादून से सटे सहसपुर विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी आर्येन्द्र शर्मा ने गुरुवार को क्षेत्र के तेलपुरा अटक फार्म में जनसभा को सम्बोधित किया।
आर्येन्द्र शर्मा ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस राज्य को बनाने में हमारे बहुत सारे लोग शहीद हुए हैं. अन्य राज्य के लोग चिंतित थे कि उत्तराखंड राज्य इतने कम संसाधनों में कैसे अस्तित्व कायम रखेगा. लेकिन हमारे उत्तराखंड के स्वाभिमानी लोगों ने संघर्ष किया और राज्य की काया पलट की है। कांग्रेस के शासनकाल में प्रदेश ने अभुत्वपुर्व विकास देखा है. लेकिन इस डबल इंजन की सरकार ने विकास को आगे ले जाने की जगह पीछे धकेला है।
शर्मा ने आगे कहा “मैं उत्तराखंड की पहली निर्वाचित सरकार की विकास योजनाओं का साक्षी रहा हूं. युवाओं के लिए यूनिवर्सिटी, पेयजल एवं सिचाई के लिए पानी की उपलब्धता को लेकर कांग्रेस शासनकाल में सर्वे करवाया. सहसपुर से मसूरी बाईपास मार्ग कैसे बने इन सारी योजनाओं पर काम किया हैद्य कांग्रेस की सरकार सत्ता में आते ही इन सब योजनाओं पर कार्य करेगी.” भविष्य की योजनाओं को लेकर शर्मा ने कहा कि युवाओं के लिए स्किल्ड एजुकेशन पर काम किया जाना है. नारी शक्ति को आत्मनिर्भर बनाने एवं उनके आर्थिक व्यवस्था में सुधर लाने के लिए भी योजनाएं बनाई जायेंगी. हर वर्ग के लिए हम भविष्य की योजनाओं पर काम कर रहें है. हम गोरखा सुधार पर भी कार्य करेंगे. अंत में आर्येन्द्र शर्मा ने सभी का आभार प्रकट किया। इस दौरान उन्हें सुनाने के लिए बारिश के बावजूद भारी संख्या में लोग मौजूद थे।