Breaking News
  • 68वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में उत्तराखण्ड को मिला Most Film Friendly State (Special Mention) पुरस्कार
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को लच्छीवाला नेचर पार्क में राज्य वन्यजीव सप्ताह 2022 का शुभारंभ किया
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से फिल्म अभिनेता  नाना पाटेकर ने शिष्टाचार भेंट की, इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने नाना पाटेकर को पहनाई पहाड़ी टोपी 
  • उत्तराखण्ड में फिल्म निर्माता-निर्देशकों को राज्य सरकार से मिला प्रोत्साहन – बंशीधर तिवारी
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने श्रीकोट पहुँचकर अंकिता भंडारी के परिजनों से घर पर जाकर की मुलाकात

हिंदी फिल्में तेलुगु फिल्मों जितना कारोबार नहीं कर पा रही हैं: करण जौहर

हैदराबाद। बॉलीवुड फिल्म निर्माता करण जौहर ने दक्षिण भारतीय सिनेमा, विशेष रूप से तेलुगु फिल्मों पर अपने विचारों के साथ एक अखिल भारतीय फिल्म क्या है, इस पर चर्चा की है। करण मानते हैं कि हाल के दिनों में हिंदी फिल्में तेलुगु फिल्मों जितना कारोबार नहीं कर रही हैं। उन्होंने तेलुगु फिल्मों की व्यावसायिक सहनशक्ति को समझाने के लिए अल्लू अर्जुन की हाल ही में रिलीज हुई फिल्म ‘पुष्पा’ का उदाहरण भी दिया।
बॉलीवुड निर्देशक ने कहा कि बिना किसी प्रचार के, अल्लू अर्जुन की ‘पुष्पा’ को केवल कुछ पोस्टर और ट्रेलर के साथ रिलीज किया गया था। भले ही अल्लू अर्जुन को उत्तर में लोग कम जानते है, लेकिन फिल्म ने बॉक्स-ऑफिस पर बहुत पैसा कमाया है।
करण ने कहा कि एक ‘पैन-इंडिया फिल्म’ की पूरी शब्दावली एस.एस. राजामौली की ‘बाहुबली’ से शुरू होती है। उन्होंने कहा कि ‘बाहुबली 1’ ने 112 करोड़ रुपये का कारोबार किया था, जबकि राजामौली की पिछली फिल्म ‘मक्की’ ने हिंदी में सिर्फ 1 करोड़ रुपये कमाए थे।