Breaking News
  • एचआईवी संक्रमण मुक्त उत्तराखंड को लेकर गंभीर धामी सरकार
  • एक्शन में स्वास्थ्य सचिव डॉ. आर. राजेश कुमार, उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग में जल्द भरें जायेंगे खाली पड़े पद
  • उत्तराखंड में धर्मांतरण पर बना सख्त कानून, देशभर के साधु-संतों में हर्ष की लहर, मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को मिल रही शुभकामनाएं
  • प्रदेश में धर्मान्तरण पर रोक सम्बंधित कानून बना
  • महिलाओं को सरकारी नौकरियों के क्षैतिज आरक्षण का बना कानून

भाजपा प्रदेश नेतृत्व में भी बदलाव, मदन कौशिक बने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष

देहरादून, न्यूज़ आई। सरकार में नेतृत्व परिवर्तन के बाद प्रदेश भाजपा नेतृत्व में भी बदलाव कर दिया गया है। पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने त्रिवेंद्र सरकार में कैबिनेट मंत्री और प्रवक्ता का दायित्व निभाने वाले हरिद्वार से विधायक मदन कौशिक को प्रदेश भाजपा की कमान सौंपी है। कौशिक के गुरुवार को दिल्ली दौरे और वहां केंद्रीय नेताओं से मुलाकात के बाद शुक्रवार सुबह उनकी नियुक्ति कर दी गई। वह निवर्तमान अध्यक्ष बंशीधर भगत का स्थान लेंगे।
भाजपा हाईकमान ने प्रदेश सरकार के बाद पार्टी के प्रांतीय नेतृत्व में भी परिवर्तन कर फिर से चौंकाया है। पहले यह माना जा रहा था कि गढ़वाल सांसद तीरथ सिंह रावत को मुख्यमंत्री की कुर्सी सौंपने के बाद राज्य में पार्टी संगठन को यथावत रखा जाएगा, लेकिन अब हाईकमान ने इसमें भी नेतृत्व परिवर्तन कर दिया है। राज्य गठन के बाद से लगातार चौथी बार हरिद्वार का प्रतिनिधित्व कर रहे विधायक मदन कौशिक को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वह पूर्व में सरकार के साथ ही संगठन में विभिन्न पदों पर कार्य कर चुके हैं। एक रोज पहले ही पूर्व कैबिनेट मंत्री कौशिक ने अचानक दिल्ली पहुंचकर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, राष्ट्रीय महामंत्री संगठन बीएल संतोष, प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम समेत अन्य केंद्रीय नेताओं से मुलाकात की थी। शुक्रवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष नड्डा द्वारा कौशिक को उत्तराखंड भाजपा का अध्यक्ष बनाने के संबंध में राष्ट्रीय महासचिव एवं मुख्यालय प्रभारी अरुण सिंह ने नियुक्ति पत्र भी जारी कर दिया। इसके साथ ही यह भी साफ हो गया कि तीरथ कैबिनेट में कौशिक शामिल नहीं होंगे। अलबत्ता, निवर्तमान अध्यक्ष बंशीधर भगत को सरकार में जिम्मेदारी मिलने जा रही है। प्रदेश में भाजपा के इतिहास को देखें तो जब भी उसकी सरकार बनी, तब गढ़वाल व कुमाऊं मंडलों में संतुलन साधने के मकसद से मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष अलग-अलग मंडलों से रहे हैं। अब पहली बार मुख्यमंत्री और प्रदेश अध्यक्ष गढ़वाल मंडल से हैं। हालांकि, सियासी जानकारों का कहना है कि कौशिक को प्रदेश अध्यक्ष बनाने के पीछे मैदानी क्षेत्र में विधानसभा की 19 सीटों को साधने के अलावा किसान आंदोलन की तपिश थामने की रणनीति हो सकती है। उधर, कौशिक की नियुक्ति पर मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने उन्हें शुभकामनाएं दी हैं। पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भगत, पूर्व मंत्री सुबोध उनियाल, डा.धन सिंह रावत समेत अन्य नेताओं ने कौशिक को उनके आवास पर जाकर शुभकामनाएं दीं।