Breaking News
  • भाजपा से बर्खास्त हरक सिंह रावत ने कांग्रेस के वार रूम में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की
  • गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का हुआ चयन
  • उत्तराखंड महिला आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने देहरादून में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शिष्टाचार भेंट की
  • भाजपा ने जन सहभागिता के अनुरुप दृष्टि पत्र बनाने का लिया है संकल्पः निशंक
  • सरकार के विकास कार्यों का जन आशीर्वाद भाजपा को 60 पार के रूप में मिलेगाः सीएम पुष्कर सिंह धामी

सीएम ने विधानसभा क्षेत्रों को जोड़ने वाली सड़कों के निर्माण में तेजी लाने के दिये निर्देश

देहरादून, न्यूज़ आई: शुक्रवार को मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने जनपद टिहरी की विभिन्न विधानसभाओं के लिये की गई मुख्यमंत्री की घोषणाओं की समीक्षा की। इस अवसर पर कृषि मंत्री श्री सुबोध उनियाल, विधायक श्री शक्तिलाल शाह, श्री विनोद कण्डारी, श्री विजय सिंह पंवार तथा श्री धन सिंह नेगी उपस्थित थे।
मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि विधानसभा क्षेत्रों को जोड़ने वाली सड़कों के निर्माण में तेजी लायी जाय तथा निर्माण योजनाओं की डीपीआर तैयार करने में तकनीकि दक्षता का भी ध्यान रखा। योजनाओं का समग्रता से अध्ययन करने के पश्चात डीपीआर तैयार करने के साथ ही योजनाये निर्धारित समय में पूर्ण हो इसके लिए समेकित प्रयास किये जाय।
नरेन्द्र नगर विधान सभा क्षेत्र के लिये मुख्यमंत्री द्वारा की गई 36 घोषणाओं में 19 पूर्ण हो चुकी है, जबकि शेष की कार्यवाही गतिमान है। मुख्यमंत्री ने मुनि की रेती में वाहन पार्किंग के लिये पार्किंग के निर्माण हेतु पर्यटन विभाग को निर्देश दिये हैं।
घनसाली विधानसभा क्षेत्र के लिये की गई कुल 32 घोषणाओं में से 23 पूर्ण हो चुकी है जबकि शेष पर कार्य गतिमान है। प्रतापनगर विधानसभा के लिये की गई 32 घोषणाओं में से 16 पूर्ण हो गयी है, जबकि शेष में कार्य गतिमान है। टिहरी विधानसभा क्षेत्र की 34 घोषणाओं में से 21 पूर्ण हो चुकी है शेष पर कार्य गतिमान है। देवप्रयाग विधानसभा क्षेत्र के लिये कुल 29 घोषणाओं में 19 पूर्ण हो चुकी है जबकि धनोल्टी विधानसभा के लिये 41 घोषणाओं में से 27 पूर्ण हो चुकी है तथा शेष में कार्य गतिमान है।
बैठक में अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, प्रमुख सचिव श्री आनन्द वर्द्धन, श्री आर0के0सुधांशु, सचिव श्री दिलीप जावलकर के साथ ही विभिन्न विभागों के उच्चाधिकारी उपस्थित थे।