Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने ऋषिकेश पहुंचकर चारधाम यात्रा रजिस्ट्रेशन कार्यालय का किया स्थलीय निरीक्षण
  • मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार पहली बार राज्य सरकार की ओर से जवानों का कराया गया है 10 लाख रुपये तक का बीमा, राशन भी कराया जा रहा उपलब्ध
  • केदारनाथ धाम यात्रा मार्ग में अपने कार्यों से यात्रियों का दिल जीत रहे पीआरडी जवान
  • तीर्थाटन और पर्यटन मार्गों पर पार्किंग और मूलभूत सुविधाओं की समुचित व्यवस्था की जाए।
  • श्रद्धालुओं को सभी सुविधाएं एक ही प्लेटफार्म पर उपलब्ध करायेगा ‘यात्रा समाधान’ मोबाइल एप्लीकेशन

डीएम ने परिजनों को छात्रों की वापसी के लिए हर संभव मदद का दिलाया भरोसा

देहरादून,न्यूज़ आई : जिलाधिकारी डॉ आर राजेश कुमार ने यूक्रेन से बार्डर में पंहुचे मेडिकल के विद्यार्थियों विनायक थपलियाल एवं अस्मिता थपलियाल के परिजनों से उनके आवास समृद्धि एनक्लेव कारगी चौक पर मुलाकात की। उन्होंने जानकारी देते हुए कहा कि जिला प्रशासन एवं पीएमओ कार्यालय जनपद एवं राज्य के विद्यार्थी एवं लोगों को घर वापसी के लिए निरन्तर भारतीय दूतावास से समन्वय बनाये हुए है तथा निरन्तर भारतीय विद्यार्थी एवं लोगों को सकुशल घर वापसी के लिए कार्य में जुटी है। इस दौरान जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारी  से दूरभाष पर वार्ता कर दोनों विद्यार्थी की वर्तमान लोकेशन के बारे में जानकारी प्राप्त की, जिस पर परिजनों ने सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि बच्चों ने बताया है कि भारतीय दूतावास भी बच्चों सेे नियमित सम्पर्क बनाये हुए है। उन्होंने परिजनों को छात्रों की वापसी के लिए हर संभव मदद का भरोसा दिलाया। जिला प्रशासन द्वारा  यूक्रेन में फंसे जनपद एवं राज्य के लोगों व छात्रों की सुरक्षित घर वापसी के लिए शासन एवं केन्द्र सरकार से नियमित सम्पर्क  बनाते हुए सूचनाओं  का आदान-प्रदान किया जा रहा है।
जिलाधिकारी ने ऐसे सभी परिजनों से जिनके बच्चे एवं रिश्तेदार वर्तमान मे यूक्रेन में फंसे है को जिला आपदा परिचालन केन्द्र के दूरभाष नम्बर 0135-2726066, 1077 (टोल-फ्री), 07534826066 व ई-मेल आई0डी0 पर सूचना आदान प्रदान करने का अनुरोध किया ताकि यूक्रेन में फंसे लोगों को देश वापस लाने में जल्द से जल्द कार्यवाही की जा सके। जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद के 65 लोगों एवं छात्रों के यूक्रेन में फंसे होने की सूचना के क्रम में 24 लोगों को देश वापस लाया जा चुका है जबकि 41 लोगों को वापस लाया जाना शेष है जिसके लिए विभिन्न स्तरों पर प्रयास जारी हैं। इस दौरान उप जिलाधिकारी सदर मनीष कुमार, तहसीलदार सदर उपस्थित रहे।