Breaking News
  • उत्तराखंड में सूचीबद्व न्यूज पोर्टल पत्रकारों ने वरिष्ठ पत्रकार मनोज इष्टवाल के नेतृत्व में देहरादून सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात की
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि हमारी सरकार के 100 दिन संकल्प, समर्पण एवं प्रयास को समर्पित रहे
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सरकार के 100 दिन पूर्ण होने के अवसर पर 100 दिन विकास के, समर्पण और प्रयास के , विकास पुस्तक का विमोचन किया
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा न्यूज पोर्टल पत्रकारों के हितों को किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं होने दिया जायेगा
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पत्रकारों की सात सूत्रीय मांग पर सचिव सूचना क़ो जारी किये दिशा-निर्देश.!

मनमानी वसूली से यात्रियों में रोष, यात्री सुविधाओं को लेकर भी उठाए सवाल

हरिद्वार/देहरादून, न्यूज़ आई । चारधाम यात्रा को सुगम और सुरक्षित बनाने के दावे तथा यात्रा प्रबंधों को लेकर ढोल पीटने वाली सरकार के सामने अब इसका सच सामने आने लगा है। उड़ीसा और पश्चिम बंगाल से चार धाम यात्रा पर आए श्रद्धालुओं ने यहां की अव्यवस्थाओं को लेकर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज से निजी कंपनियों की मनमानी वसूली को रोकने व यात्रा व्यवस्थाओं को सुधारने की मांग की गई है।
पश्चिमी बंगाल और उड़ीसा से आए श्रद्धालुओं ने पूर्व मंडी परिषद संजय चोपड़ा और पूर्व ट्रैवल एसोसिएशन के अध्यक्ष गोपाल कृष्ण प्रधान से मिलकर अपनी पीड़ा उन्हें बताई। उनका कहना है कि यात्रा प्रबंधन में लगी कंपनियों द्वारा यात्रियों से किराए के नाम पर मनमानी वसूली की जा रही है। क्योंकि सरकार ने कोई किराया निर्धारित नहीं किया है। उनका आरोप है कि यात्रा संचालन में लगी कंपनियां यात्रियों का शोषण कर रही हैं। पेट्रोलकृडीजल की बढ़ती कीमतों के नाम पर उनसे अतिरिक्त वसूली की जा रही है। उन्होंने सीएम धामी व सतपाल महाराज से इस लूट पर तत्काल रोक लगाने की है। यात्रियों का कहना है कि इससे सरकार और उत्तराखंड की छवि खराब हो रही है। उनका कहना है कि उत्तराखंड शासन प्रशासन द्वारा यात्रा व्यवस्थाओं को लेकर बड़ेकृबड़े दावे तो किए गए हैं लेकिन धरातल पर हाल खराब है। उनका कहना है कि हरिद्वार के पंजीकरण भवन में यात्रियों के बैठने तक की व्यवस्था नहीं है। बाकि सुविधाएं तो बहुत दूर की बात है उन्होंने मुख्यमंत्री व पर्यटन मंत्री से मनमानी वसूली करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।