Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पुलिस लाइन में प्रशासनिक भवन, क्वार्टर गार्द एवं बैरक का किया शिलान्यास
  • प्रदेशवासियों को जल्द ही ई-एफआईआर की सुविधा मिलेगी, इसमें घर बैठे ही एफआईआर दर्ज कराई जा सकेगी
  • आकाश अंबानी होंगे रिलायंस जियो इनफोकॉम के नए चेयरमैन
  • सीएम धामी ने पीएम मोदी से की भेंट, जीएसटी क्षतिपूर्ति की अवधि बढ़ाने का किया अनुरोध
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सैनिक स्कूल के लिए वित्तीय सहायता प्रदान किये जाने का किया रक्षा मंत्री से अनुरोध

कांग्रेसी भ्रष्टाचार छुपाने के लिए प्रवर्तन निदेशालय पर दबाव डाल रहेः मदन कौशिक

देहरादून, न्यूज़ आई। कांग्रेस द्वारा प्रवर्तन निदेशालय पर किया जा रहा धरना प्रदर्शन भ्रष्टाचार पकड़े जाने पर  दबाव डालने की कोशिश है। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने सोमवार को कहा कि जो जेल से बेल पर हैं वह नारा दे रहे हैं कि आओ दिल्ली घेरो क्योंकि हमारा भ्रष्टाचार पकड़ा गया है। कांग्रेस के देश व्यापी प्रदर्शन पर प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि मेरा कांग्रेस और राहुल गांधी से सीधा प्रश्न है कि  क्या वह इसका जवाब दे पाएंगे। 1930 के दशक से एसोसिएट जनरल लिमिटेड समाचार पत्र प्रकाशित करने के लिए कम्पनी बनी थी, इस कम्पनी में 5 हजार स्वतंत्रता सेनानियों की भी भागीदारी थी आज वही कम्पनी गांधी परिवार के लिए यंग इंडियन रियल एस्टेट का व्यापार कर रही है। प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि 2010 में पांच लाख रुपये से यंग इंडियन कम्पनी बनाई गई थी जिसमें 76 प्रतिशत की भागीदारी राहुल गांधी और सोनिया गांधी की है। दो हजार करोड़ से ज्यादा की सम्पत्ति जो स्वतंत्रता सेनानियों की थी वह एक परिवार की कैसे हो गई।
प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने आरोप लगाया है कि राहुल गांधी, सोनिया गांधी और यंग इंडियन कंपनी का डोटेक्स मर्चेंटडाइज जो कोलकाता की एक हवाला कंपनी है के साथ उन्हें अपने सम्बंधों को भी उजागर करना चाहिए। प्रदेश अध्यक्ष ने तथ्यों की जानकारी देते हुए कहा कि आज जो लोग अनावश्यक रूप से शोर शराबा कर प्रवर्तन निदेशालय पर दबाव डालने का काम कर रहे हैं उन्हें यह ध्यान रखना चाहिए कि 2010 में यंग इंडिया चौरिटेबल कंपनी ने 2016 तक कोई चौरिटेबल काम नहीं किया, बल्कि रियल एस्टेट का काम शुरू किया। कांग्रेस ने चंदे के रूप में मिले 90 करोड़ रुपये को यंग इंडियन को ऋण रूप में देकर बाद में उसी ऋण को माफ कर दिया। यह आंकड़े और तथ्य इस बात के प्रमाण है कि भ्रष्टाचार चरम पर हुआ है। उन्होंने बताया कि 2010 में एसोसिएट जनरल लिमिटेड के सभी शेयर गांधी परिवार के यंग इंडियन को हस्तांतरित कर दिए गए और दो हजार करोड़ की सारी पूंजी गांधी परिवार को भ्रष्टाचार के तहत दे दी गई। उन्होंने साफ कहा कि तथ्य और कथ्य में बहुत अंतर है। गांधी परिवार के भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए दिल्ली को घेरकर कांग्रेस ने आम जनता को परेशान करने का घिनौना काम किया है जिसकी हम घोर निंदा करते हैं। यह केवल भ्रष्टाचार को छुपाने के लिए दबाव की राजनीति है।