Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने की विद्यालयी शिक्षा विभाग की समीक्षा, शिक्षा की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिये जाने के दिये निर्देश
  • छात्रों को अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर शिक्षा प्रदान करने के लिये विद्यालयों में अंग्रेजी एवं कम्प्यूटर के गेस्ट टीचरों की, की जायेगी व्यवस्था
  • प्रदेश में कक्षा 9 से 12 तक के सभी वर्गों के छात्रों को भी अगले वर्ष से निशुल्क उपलब्ध करायी जायेगी पाठ्य पुस्तकें
  • मुख्यमंत्री ने उद्योग विभाग द्वारा आयोजित आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर वाणिज्य उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया
  • मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने “अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद“ के अध्यक्ष श्री महंत नरेन्द्र गिरी के निधन पर शोक व्यक्त किया

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के पहुंचते ही किसानों में आया जोश , समर्थन में लगाये जिंदाबाद के नारे

मुजफ्फरनगर। तीन कृषि कानूनों के विरोध में जीआईसी मैदान में किसान महापंचायत में शामिल होने के लिए भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत गाजीपुर बॉर्डर से मुजफ्फरनगर पहुंचे, तो कार्यकर्ताओं में जोश आ गया और उन्होंने भाकियू व राकेश टिकैत के समर्थन में जमकर जिंदाबाद के नारे लगाये।
दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 9 माह से धरना दे रहे राकेश टिकैत भी पंचायत स्थल पर पहुँचे। भारी भीड़ होने के कारण राकेश टिकैत को मंच तक पहुंचने में काफी मशक्कत करनी पडी और भाकियू कार्यकर्ता उन्हें मंच पर लेकर पहुंचे। खुली गाडी में सवार राकेश टिकैत पर उनके समर्थकों ने पुष्प वर्षा भी की। महापंचायत समाप्त होने के बाद राकेश टिकैत अपने घर नहीं गये, और वापस धरनास्थल गाजीपुर बॉर्डर पर चले गये। उन्होंने संकल्प ले रखा है कि जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं होंगे, तब तक वह मुजफ्फरनगर की धरती पर पांव नहीं रखेंगे।
राकेश टिकैत के लिए भी आज का दिन यादगार रहेगा क्योंकि आज 9 महीने बाद वे जब अपने गृहनगर में आये है तो उनकी हैसियत भी बदली हुई थी , भाकियू के प्रवक्ता के मुकाबले राकेश एक बड़े कद के किसान नेता के रूप में नगर में आये। किसान आंदोलन ने राकेश टिकैत की देश में हैसियत और लोकप्रियता ही बदलकर रख दी है।