Breaking News
  • मुख्यमंत्री ने ऋषिकेश पहुंचकर चारधाम यात्रा रजिस्ट्रेशन कार्यालय का किया स्थलीय निरीक्षण
  • मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार पहली बार राज्य सरकार की ओर से जवानों का कराया गया है 10 लाख रुपये तक का बीमा, राशन भी कराया जा रहा उपलब्ध
  • केदारनाथ धाम यात्रा मार्ग में अपने कार्यों से यात्रियों का दिल जीत रहे पीआरडी जवान
  • तीर्थाटन और पर्यटन मार्गों पर पार्किंग और मूलभूत सुविधाओं की समुचित व्यवस्था की जाए।
  • श्रद्धालुओं को सभी सुविधाएं एक ही प्लेटफार्म पर उपलब्ध करायेगा ‘यात्रा समाधान’ मोबाइल एप्लीकेशन

भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के पहुंचते ही किसानों में आया जोश , समर्थन में लगाये जिंदाबाद के नारे

मुजफ्फरनगर। तीन कृषि कानूनों के विरोध में जीआईसी मैदान में किसान महापंचायत में शामिल होने के लिए भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत गाजीपुर बॉर्डर से मुजफ्फरनगर पहुंचे, तो कार्यकर्ताओं में जोश आ गया और उन्होंने भाकियू व राकेश टिकैत के समर्थन में जमकर जिंदाबाद के नारे लगाये।
दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 9 माह से धरना दे रहे राकेश टिकैत भी पंचायत स्थल पर पहुँचे। भारी भीड़ होने के कारण राकेश टिकैत को मंच तक पहुंचने में काफी मशक्कत करनी पडी और भाकियू कार्यकर्ता उन्हें मंच पर लेकर पहुंचे। खुली गाडी में सवार राकेश टिकैत पर उनके समर्थकों ने पुष्प वर्षा भी की। महापंचायत समाप्त होने के बाद राकेश टिकैत अपने घर नहीं गये, और वापस धरनास्थल गाजीपुर बॉर्डर पर चले गये। उन्होंने संकल्प ले रखा है कि जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं होंगे, तब तक वह मुजफ्फरनगर की धरती पर पांव नहीं रखेंगे।
राकेश टिकैत के लिए भी आज का दिन यादगार रहेगा क्योंकि आज 9 महीने बाद वे जब अपने गृहनगर में आये है तो उनकी हैसियत भी बदली हुई थी , भाकियू के प्रवक्ता के मुकाबले राकेश एक बड़े कद के किसान नेता के रूप में नगर में आये। किसान आंदोलन ने राकेश टिकैत की देश में हैसियत और लोकप्रियता ही बदलकर रख दी है।