Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तराखंड के पूर्व  पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी द्वारा लिखित उपन्यास “भंवर एक प्रेम कहानी“ का विमोचन किया
  • सरकार तीर्थयात्रियों की सहायता हेतु तत्पर होकर कार्यकर रहीः मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की उपस्थिति में उत्तराखण्ड सरकार और भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए
  • नमामि गंगे परियोजना के तहत राज्य के लिए 43 करोड़ की चार परियोजनाओं को मिली स्वीकृति
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री आवास स्थित मुख्य सेवक सदन में आयोजित बजट पूर्व संवाद कार्यक्रम को संबोधित किया

भारतीय जनता पार्टी ने शक्ति केंद्र, बूथ और पन्ना प्रमुख के स्तर पर चुनाव प्रचार को केंद्रित करने का लिया निर्णय

देहरादून, न्यूज़ आई। विधानसभा चुनावों में रैली, जनसभा से प्रचार पर रोक के बाद भारतीय जनता पार्टी ने शक्ति केंद्र, बूथ और पन्ना प्रमुख के स्तर पर चुनाव प्रचार को केंद्रित करने का निर्णय लिया है। शनिवार को प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की अध्यक्षता में पार्टी मुख्यालय में कोर ग्रुप की बैठक में यह निर्णय लिया गया।
पार्टी के पास मैनपावर की कोई कमी नहीं है लिहाजा बूथों पर पांच-पांच कार्यकर्ताओं की कई टीमें बनाई जाए, जो घर- घर व गली -गली में प्रचार का जिम्मा संभालेंगे। इस दौरान बदली हुई परिस्थितियों में प्रचार को मजबूती से आगे बढ़ाने पर फोकस करने को कहा गया है। विदित है कि लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण को देखते हुए चुनाव आयोग रैली, जनसभा आदि पर रोक लगा चुका है। इस वजह से भाजपा की चुनावी रणनीति प्रभावित हो गई है। भाजपा अभी तक बड़ी- बड़ी रैली और जनसभा के जरिए वोटरों को रिझाने का प्रयास करती रही है। लेकिन इस बार स्थितियां बदल गई हैं। ऐसे में अब भाजपा बूथ स्तर पर अपने मजबूत संगठन का फायदा प्रचार के लिए उठाना चाहता है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि कोर ग्रुप की बैठक में चुनावी प्रचार और चुनाव की रणनीति को लेकर चर्चा हुई है और इसी के आधार पर अब आगे चुनाव प्रबंधन किया जाना है।
बैठक में उत्तराखंड चुनाव प्रभारी प्रहलाद जोशी, सीएम पुष्कर धामी, उत्तराखंड प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम, सह प्रभारी रेखा वर्मा, पूर्व सीएम डा. रमेश पोखरियाल निशंक, विजय बहुगुणा, त्रिवेंद्र रावत, तीरथ रावत, सांसद, नरेश बंसल,अजय टम्टा, कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, सुबोध उनियाल, धन सिंह रावत, महामंत्री (संगठन) अजेय कुमार, महामंत्री राजेंद्र भंडारी, कुलदीप कुमार, सुरेश भट्ट आदि मौजूद रहे।