Breaking News
  • दून की कैंट भाजपा के लिए सुरक्षित सीट, लेकिन बड़ा सवाल हरबंस कपूर का उत्तराधिकारी कौन होगा ?
  • लैंसडाउन विधानसभा: लैंसडाउन से चुनाव लड़ने के हरक सिंह रावत की बहू अनुकृति ने दिए संकेत
  • आचार संहिता के बाद मनमाने ट्रांसफर पर चुनाव आयोग के तेवर तल्ख
  • Uttarakhand Election 2022: कांग्रेस जारी कर सकती हैं प्रत्याशियों की पहली लिस्ट, 45 नामों पर लग सकती है मुहर
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सोमवार को मुख्यमंत्री आवास में पद्मश्री डॉ. बी.के.एस. संजय को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया

ब्रिसबेन में भारत की ऐतिहासिक जीत, 2-1 से नाम की सीरीज

ब्रिस्बेन के गाबा में खेले गए बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के चौथे टेस्ट में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को तीन विकेट से हरा दिया. इसके साथ ही भारतीय टीम ने चार मैचों की यह सीरीज भी 2-1 से अपने नाम कर ली. गाबा के मैदान पर पहली बार किसी ने टीम ने 300 से ज्यादा रनों के लक्ष्य का पीछा किया है. भारत ने ब्रिसबेन में खेले गए रोमांचक टेस्ट मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया को 3 विकेट से करारी शिकस्त दी है. इस जीत के बाद लगातार टीम इंडिया को बधाई दी जा रही है. ब्रिस्बेन के गाबा इंटरनेशनल स्टेडियम में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम को 32 साल के बाद कोई हार मिली है. साथ ही गाबा पर भारत की यह अब तक की पहली जीत है.
भारत की इस ऐतिहासिक जीत के हीरो रहे विकेटकीपर बल्लेबाज़ ऋषभ पंत और सलामी बल्लेबाज़ शुभमन गिल. पंत ने 138 गेंदो में 89 रन बनाकर नाबाद रहे. इस दौरान उन्होंने नौ चौके और एक छक्का लगाया. इसके साथ ही वह टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 1,000 रन बनाने वाले भारतीय विकेटकीपर भी बन गए. वहीं शुभमन गिल ने 146 गेंदो में 91 रनों की शानदार पारी खेली. अपनी इस पारी में उन्होंने आठ चौके और दो छक्के लगाए.
पंत और गिल के अलावा चेतेश्वर पुजारा ने भी टीम इंडिया की जीत में अहम योगदान दिया. उन्होंने 211 गेंदो में 56 रनों की पारी खेलकर एक छोर बांधे रखा. गाबा की टूटी हुई पिच पर पुजारा दीवार बनकर खड़े रहे और भारत को मैच में बनाए रखा. पुजारा के कारण ही पंत तेजी से रन बनाते रहे और भारत को ऐतिहासिक जीत दिलाई.