Breaking News
  • भाजपा से बर्खास्त हरक सिंह रावत ने कांग्रेस के वार रूम में कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की
  • गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का हुआ चयन
  • उत्तराखंड महिला आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने देहरादून में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से शिष्टाचार भेंट की
  • भाजपा ने जन सहभागिता के अनुरुप दृष्टि पत्र बनाने का लिया है संकल्पः निशंक
  • सरकार के विकास कार्यों का जन आशीर्वाद भाजपा को 60 पार के रूप में मिलेगाः सीएम पुष्कर सिंह धामी

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर बोले, सरकार जल्द ही कृषि कानूनों पर दोबारा विचार करेगी

नागपुर। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि कृषि कानूनों पर पुनर्विचार किया जाएगा। केंद्र सरकार ने 70 साल बाद कृषि कानूनोंं के माध्यम से देश में एक बड़ी क्रांति लाने की योजना बनाई थी लेकिन किन्हीं कारणों के चलते सरकार को दो कदम पीछे हटना पड़ा।
नागपुर के रेशमबाग में स्थित सुरेश भट सभागार में शुक्रवार को एग्रो विजन कृषि प्रदर्शनी के शुभारंभ पर कृषि मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार जल्द ही कृषि कानूनों पर दोबारा विचार करेगी। तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कृषि क्षेत्र में सुधारों पर जोर दिया जा रहा है। इसी कड़ी में कृषि कानून पेश किए गए लेकिन दुर्भाग्य से इन कानूनों को लागू नहीं किया जा सका। किसान देश की रीढ़ हैं और इनके सशक्तिकरण के लिए हर संभव प्रयास किये जायेंगे। तोमर ने कहा कि कृषि के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में भी निजी निवेश की आवश्यकता है जिससे किसानों की प्रगति संभव है। खाद्य तेल के आयात को नियंत्रित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। इसके तहत कुल 28 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में पाम तेल उत्पादक फसलों की खेती की जा रही है। इसमें से 9 लाख हेक्टेयर अकेले पूर्वोत्तर राज्य में है। तोमर ने बताया कि प्रधानमंत्री ने फसलों के एमएसपी के लिए एक समिति का गठन किया है। सरकार कृषि क्षेत्र में असंतुलन को दूर करने की कोशिश कर रही है।