Breaking News
  • मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से कैम्प कार्यालय में महानगर भाजपा के प्रतिनिधियों ने भाजपा महानगर अध्यक्ष सिद्धार्थ अग्रवाल के नेतृत्व में भेंट की
  • 1400 से अधिक शिकायतों का अब तक किया गया मौके पर निराकरण
  • मुख्यमंत्री के निर्देशों पर आयोजित हो रहे “विद्युत समस्या समाधान शिविर“ में आमजन की समस्याओं का प्राथमिकता पर हो रहा निस्तारण
  • मुख्यमंत्री ने लक्ष्मण विद्यालय इंटर कॉलेज, पथरीबाग में स्कूली बच्चों के साथ ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में किया प्रतिभाग
  •  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम से ‘परीक्षा पे चर्चा- 2023’ कार्यक्रम में देश के छात्र-छात्राओं, अध्यापकों एवं अभिभावकों से संवाद किया

ओमिक्रोन के देश भर में बढते मामलों के बीच केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने कोविड प्रोटोकॉल और दिशा निर्देश 31 जनवरी तक बढ़ाये

नयी दिल्ली। कोविड के नये वैरिएंट ओमिक्रोन के देश भर में बढते मामलों के बीच केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने कोविड संबंंधी प्रोटोकाल तथा दिशा निर्देशों पर अमल की अवधि आगामी 31 जनवरी तक बढा दी है और सभी राज्यों तथा केन्द्र शासित प्रदेशों से इन्हें सख्ती से लागू करने को कहा है।
केन्द्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सोमवार को सभी राज्यों , केन्द्र शासित प्रदेशों , मंत्रालयों तथा विभागों को पत्र लिख कर इस आशय के आदेश जारी किये। यह आदेश आपदा प्रबंंधन अधिनियम 2005 के तहत जारी किया गया है।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गत गुरूवार को देश भर में कोविड की स्थिति की समीक्षा के बाद जारी आदेश में कहा गया है कि राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश कोविड संक्रमण की स्थिति के अनुसार भीड भाड़ पर नियंत्रण के लिए स्थानीय स्तर पर जरूरी प्रतिबंध लगायें। उनसे सामाजिक दूरी का पालन सुनिश्चित करने के लिए जरूरत के अनुसार धारा 144 लागू करने को भी कहा गया है।
उन्होंने कहा कि केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश के विभिन्न हिस्सों में कोविड महामारी और कोविड के नये संस्करण ओमिक्रोन के बढते मामलों के मद्देनजर इससे निपटने के लिए गत मंगलवार को व्यापक एहतियाती उपाय लागू करने को कहा था। इन उपायों पर अमल को अब आगामी 31 जनवरी तक बढाया जा रहा है।
भल्ला ने सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशाें के मुख्य सचिवों से इन उपायों तथा दिशा निर्देशों को देश भर में सख्ती से लागू करने को कहा है। इनका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ आपदा प्रबंधन अधिनियम की धाराओं 51 से 60 के प्रावधानों तथा भारतीय दंड संहिता की धारा 188 एवं अन्य कानूनी प्रावधानों के तहत कार्रवाई की जायेगी।