Breaking News
  • मानसून के दृष्टिगत मरीजों और गर्भवती महिलाओं के लिए आपातकालीन स्थिति में हेली एम्बुलेंस की व्यवस्था रखी जाए
  • 15 जून से पहले मानसून के दृष्टिगत सभी तैयारियां पूर्ण की जाए- मुख्यमंत्री
  • अजय टम्टा को मोदी सरकार में मिली बड़ी जिम्मेदारी, बने केंद्रीय सड़क एवं परिवहन राज्य मंत्री
  • अजय टम्टा कुमाऊं से केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने वाले छठे सांसद
  • बुजुर्ग की लाठी बने सीएम धामी, पुष्कर धामी ने तुरंत किया समस्या का समाधान !

अब हम यूपी में महापंचायत करेंगे: राकेश टिकैत

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने हैं. लेकिन इस बार बीजेपी की सत्ता में वापसी इतनी आसान नहीं लग रही है. राज्य के किसान केंद्र के नए कृषि कानूनों की वजह से बीजेपी सरकार से नाराज़ दिख रहे हैं. किसान पिछले साल नवंबर से आंदोलन पर हैं और कानूनों की वापस लेने पर अड़े हुए हैं. इस बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि अब हम यूपी में महापंचायत करेंगे. ये सरकार किसानों की मांगों को अनसुना कर रही है.
दिल्ली के घेराव पर राकेश टिकैत ने कहा, लाल किला जाने पर कानून बने हैं क्या? हम किसी का प्रचार नहीं कर रहे हैं. हम किसानों का प्रचार कर रहे हैं. गन्ना किसानों का बकाया है. क्या उसकी बात करना गुनाह है? बिजली की कीमत सबसे ज्यादा है. क्या इसकी बात करना गुनाह है? हम किसानों के मुद्दों को लेकर अब यूपी में महापंचायत करेंगे.
चुनावों को लेकर राकेश टिकैत ने कहा, कहीं जाने पर पाबंदी है क्या? भटिंडा में तो कई चुनाव नहीं है. हम प्रचार नहीं कर रहे हैं. सरकार ही हमारी बात नहीं सुन रही है तो देश में तो जाना ही होगा. अब हम लखनऊ का घेराव करेंगे.
राकेश टिकैत ने कहा, किसान आंदोलन में हम किसी पार्टी का प्रचार नहीं कर रहे. आंदोलन को लेकर जो गलतफहमी फैली हुई है, उसे दूर करना होगा. उन्होंने कहा, भारतीय किसान युनियन भानु मैदान छोड़कर चला गया. ये बीजेपी के लोग हैं. जो लोग मैदान छोड़कर चले गए, वो किसान नहीं हो सकते.ये किसान आंदोलन था, किसान आंदोलन है और किसान आंदोलन रहेगा.